अलीगढ़: लाउडस्पीकर के बाद अवैध मजार व दरगाहों को हटाने की उठी मांग, सांसद

अलीगढ़: लाउडस्पीकर के बाद अवैध मजार व दरगाहों को हटाने की उठी मांग, सांसद बोले जल्द चलेगा बुलडोजर

mazar

अलीगढ़ कभी एएमयू में जिन्ना विवाद तो कभी टिंकल कांड कभी नूरपुर पलायन तो कभी लाउडस्पीकर हटाने की मांग को लेकर चर्चा में रहता है। अलीगढ़ एक बार फिर अवैध मजारों और दरगाहों को हटाने की मांग को लेकर चर्चा में है। इस बार अलीगढ़ जिले में मौजूद सभी अवैध मजारों और दरगाहों को हटाने की हिंदूवादियों ने मांग की है। साथ ही प्रशासन को चेतावनी दी है कि अगर अवैध मजार व दरगाहों के खिलाफ कार्रवाई नहीं की गई तो हिंदू समाज रणनीति बनाकर प्रशासन के खिलाफ आंदोलन करने के लिए मजबूर होगा।

मामले पर सांसद सतीश गौतम ने कहा कि अगर अवैध रूप से किसी ने सरकारी जमीन पर निर्माण किया है तो ऐसी सभी जगहों पर बुलडोजर चलेगा। किसी को बख्शा नहीं जाएगा। वहीं इस मांग को उठने के बाद जिला प्रशासन सतर्क हो गया है। जानकारी के मुताबिक यह मांग टप्पल से उठी है। टप्पल के गांव हेतलपुर निवासी हिंदूवादी ओमवीर सिंह ने इस मांग को प्रबलता के साथ उठाया है।

ओमवीर सिंह ने इसे लेकर युवाओं के साथ मिलकर राज्यपाल के नाम जल शक्ति मंत्री स्वतंत्र देव सिंह को राजस्व मंत्री अनूप प्रधान व सांसद सतीश गौतम की मौजूदगी में ज्ञापन सौंपा है। साथ ही मांग की है कि क्षेत्र में जितने भी अवैध रूप से मजार व दरगाह बने हुए हैं उन्हें तत्काल हटाया जाए। इन मजारों का हटाना प्रदेश में शांति बनाए रखने के लिए बेहद जरूरी है।

ओमवीर सिंह ने अपने ज्ञापन में कस्बा टप्पल में अलीगढ़ पलवल रोड किनारे आदमपुर मार्ग के सामने बनी मजार, अलीगढ़ पलवल मार्ग पर अटारी रोड के पास बनी मजार, नूरपुर रोड पर बनी मजार, गढ़ी सूरजमल रोड पर यमुना एक्सप्रेसवे पर बनी मजार, अलीगढ़ पलवल रोड पर खैर कस्बा के कोल्डस्टोर के समीप आदि का जिक्र करते हुए सभी अवैध मजारों को हटाने की अपील की है। उन्होंने कहा कि रोड किनारे बनी अवैध मजार आए दिन सड़क दुर्घटना का कारण बन रहीं हैं।

mazar
अलीगढ़ पलवल फोर लेन पर कस्बा टप्पल में बनी मजार

इससे  साथ ही कहा है कि सड़क किनारे व सरकारी भूमि पर अवैध रूप से निर्माण की गईं मजार व दरगाहों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। ओमवीर सिंह ने अपने ज्ञापन के माध्यम से सरकार से इसके लिए कानून बनाने की भी मांग की है ताकि बिना अनुमति के इस प्रकार की मजारों का निर्माण न हो सके। ओमवीर सिंह ने खबर इंडिया से बातचीत करते हुए बताया कि आज से 4-6 वर्ष पहले यहां कुछ भी नहीं था और फिर अचानक से अवैध तरीके से मजार स्थापित कर दी गईं।

यह सब सुनियोजित तरीके से समुदाय विशेष के द्वारा किया जा रहा है, जोकि स्वस्थ समाज के लिए ठीक नहीं है। उन्होंने बताया कि हमारे भगवान और देश के महापुरुष प्रशासन के लिए कुछ भी नहीं है जब मन होता है उनको हटा दिया जाता है, लेकिन वहीं इसके उलट अवैध रूप से निर्माण की गईं मजार व दरगाहों को प्रशासन हाथ तक नहीं लगाता। इस संबंध में हमने हिंदूवादियों के साथ मिलकर पहले जनप्रतिनिधियों और फिर प्रशासनिक अधिकारियों को ज्ञापन देकर इन्हें हटाने की मांग की है।

mazar
कस्बा टप्पल में रोड किनारे बनी अवैध मजार

ओमवीर सिंह ने कहा कि अवैध मजारों का हटाया जाना बहुत जरूरी है। अगर ऐसा नहीं किया जाता है तो हिंदूवादी लोग रणनीति बनाकर आंदोलन करने के लिए मजबूर होगा। वहीं एसडीएम खैर संजय मिश्रा ने बताया कि इस संबंध में हमें कोई ज्ञापन नहीं मिला है अगर अवैध रूप से निर्माण की जा रहीं मजारों की बात है तो इनकी जांच कराई जाएगी।

अलीगढ़ सांसद सतीश गौतम ने कहा कि मामला मेरे संज्ञान आया है। पीडब्ल्यूडी के अधिकारियों से इसकी जांच कराई जाएगी साथ ही प्रशासन की मदद से इनको चिन्हित कराया जाएगा। सांसद ने कहा कि ऐसी सभी जगहों पर बुलडोजर चलवाया जाएगा जो अवैध हैं चाहे फिर वह इमारत किसी बिल्डर की हो या फिर वह मजार या दरगाह ही क्यों न हो । यह योगी का प्रदेश है यहां जो भी होगा संविधान से होगा।

अलीगढ़: प्रियंका शर्मा ने मुंह दिखाई में सांसद से मांगा पक्का रास्ता, सांसद बोले “एक महीने में पूरा कर दूंगा बेटी से किया हुआ वायदा”

जाट योद्धाओं के इतिहास को लेखकों ने छुपाया, जाट एक मार्शल क़ौम

By Keshav Malan

यह कलम दिल, दिमाग से नहीं सिर्फ भाव से लिखती है, इस 'भाव' का न कोई 'तोल' है न कोई 'मोल'

Leave a Reply

Your email address will not be published.