Delhi: सरकारी जमीन पर अवैध मदरसे की हकीककत दिखाने पहुंचे रिपोर्टर को...

Delhi: सरकारी जमीन पर अवैध मदरसे की हकीकत दिखाने पहुंचे रिपोर्टर को बनाया बंधक, संचालक ने बंद कमरे में जमकर की मारपीट

Delhi Madarsa

एक तरफ जहां असम में अवैध मदरसों पर बुलडोजर की कार्रवाई की जा रही है वहीं यूपी में योगी सरकार अब अवैध मदरसों को लेकर सक्रीय हो गई है। इसे लेकर योगी सरकार ने गैर मान्यता प्राप्त मदरसों का सर्वे कराने के आदेश दिए हैं, लेकिन इसके उलट दिल्ली में अवैध मदरसे दिल्ली सरकार की नाक के नीचे धडल्ले से चलाए जा रहे हैं। साथ ही ऐसा करके मुस्लिम बच्चों के भविष्य के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है।

दिल्ली में संचालित अवैध मदरसों की हकीकत दिखाने के लिए बीते मंगलवार(6 सितंबर, 2022) को जब हेडलाइंस इंडिया के रिपोर्टर अपने कैमरामैन के साथ दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित मदरसे में पहुंचे तो उन्हें वहां बंधक बना लिया गया। इसके बाद मदरसा संचालक ने अपने साथियों के साथ मिलकर रिपोर्टर व उसके कैमरामैन के साथ जमकर मारपीट की और कमरे में घंटों तक बंधक बनाए रखा। आरोप है कि इस दौरान आरोपी संचालक कैमरामैन से वीडियो डिलीट करने का दवाब बनाता रहा।

 

हेडलाइंस इंडिया की ओर से जारी की गई वीडियो में देखा जा सकता है कि रिपोर्टर ने पुलिस थाने की रिपोर्ट और कुछ कोर्ट के कागज दिखाते हुए निजामुद्दीन स्थित ‘मदरसा जामिया अरबिया’ को अवैध होने का दावा किया गया है। साथ ही बताया गया है कि मदरसा LNDO की जमीन पर अवैध रूप से कब्जा करके बनाया गया है। इस दावे को लेकर ग्राउंड रिपोर्ट करने पहुंचे पत्रकार ने जब मदरसे में जाकर तस्वीरें दिखाई और मदरसा संचालक से बात करने की कोशिश की। इसी दौरान ऑफिस में रिपोर्टर को बात करने के बहाने ले जाकर मदरसा संचालक ने रिपोर्टर और कैमरामैन को बंधक बना लिया।

मदरसा संचालक वीडियो डिलीट करने का बनाता रहा दवाब

आरोप है कि कैमरा बंद कराने के बाद आरोपियों ने पत्रकार और उनके साथी के साथ घंटों तक जमकर मारपीट की गई और आरोपी लगातार वीडियो डिलीट करने का दवाब बनाते रहे। इसके बाद किसी तरह से वह अपनी जान बचाकर वहा से निकले। वही इस घटना को लेकर पत्रकारों में भारी आक्रोश है। वहीं अब सवाल यह खड़ा होता है कि इस तरफ जहां असम, यूपी के साथ केन्द्र सरकार मदरसों की गतिविधियों को लेकर बेहद सजग है। तो वहीं दिल्ली में अवैध मदरसे धडल्ले से चल भी रहें हैं और मुस्लिम बच्चों के परिजनों को अंघेरे में रखते हुए बच्चों के भविष्य से खिलवाड़ भी कर रहे हैं।

आपको बता दें कि हाल ही में असम के मुख्यमंत्री हेमंत विस्व सरमा ने एक मदरसे को इसलिए बुलडोजर से गिरा दिया कि वहां आतंकी बनाने का पाठ पढ़ाया जाता था साथ ही उसे संचालित करने वाले लोग आतंकी संगठनो से जुड़े हुए थे। इससे पहले भी असम सरकार दो और अवैध मदरसों को गिरा चुकी है। वहीं इसके बाद उत्तर प्रदेश की योगी सरकार भी प्रदेश में चल रहे अवैध मदरसों को लेकर सजग हो गई है।

योगी आदित्यनाथ ने यूपी के सभी अवैध मदरसों की सर्वे कराने का आदेश दिया है। सर्वे टीम में एसडीएम, बीएसए और जिला अल्पसंख्यक अधिकारी शामिल रहेंगे। टीम अपने सर्वे के बाद रिपोर्ट प्रशासन को सौंपेंगे। मदरसों का सर्वे 5 अक्टूबर तक कराने के निर्देश दिए हैं साथ ही अधिकारियों को इसकी रिपोर्ट शासन को  25 अक्टूबर तक भेजनी होगी। हालांकि सर्वे का विरोध करते हुए जमीयत उलेमा ए हिंद के अध्यक्ष महमूद मदनी ने कहा है कि योगी सरकार मदरसों को बर्बाद करने का पूरा प्लान बना चुकी है।

ये भी पढ़ें…

UP Meerut: मेरठ में मनाय गया पाकिस्तान की जीत पर जश्न, जमकर थिरके गद्दार,फोड़े पटाखे

Delhi: जमीअत उलेमा-ए-हिन्द की दिल्ली में बैठक, मौलाना मदनी बोले-“तीन मुद्दों पर सरकार से करेंगे बात”

By Keshav Malan

यह कलम दिल, दिमाग से नहीं सिर्फ भाव से लिखती है, इस 'भाव' का न कोई 'तोल' है न कोई 'मोल'

Leave a Reply

Your email address will not be published.