जहांगीरपुरी में हिंदू लड़ककियों का सड़क पर निकलना मुश्किल, चश्मदीदों ने दर्द किया बयां

दिल्ली हिंसा

शनिवार को हनुमान जन्मोत्सव की शोभायात्रा के दौरान दिल्ली के जहांगीरपुरी में भड़की हिंसा के बाद जब ख़बर इंडिया की टीम रविवार दोपहर को इलाके में पहुंची तो नाजार कुछ ऐसा था कि हर कोई सहम जाए। सुनसान पड़ा इलाका मानो ऐसा लग रहा था जैसे एक किसी बड़े तूफान के बाद की शांति होती है। चारों ओर पुलिस फोर्स का पहरा और मीडियाकर्मियों का जमावड़ा लगा हुआ था। हम भी इन्हीं में से एक थे।

जो लोग इलाके में दिख रहे थे उनके चेहरे पर खौफ साफ दिखाई दे रहा था। सड़कों पर बिखरी कांच की बोतलें और ईंट-पत्थर वहां के हालात बयां कर रहे थे। इसी से अंदाजा लगाय़ा जा सकता है कि हिंसा दौरान हालात कितने तनावपूर्ण और भयावह रहे होंगें। हमारे कदम जैसे ही आगे की ओर बढ़ रहे थे ऐसे ही बंद पड़ी दुकानें, जली हुई गाड़ियां और दुकानों से की गई लूटपाट के बाद बिखरा हुआ सामान दिखाई दे रहा था।

स्थानीय लोग घरों के बाहर आने से डर रहे थे। कुछ घरों में ताले पड़े हुए थे और चारों तरफ पूरे इलाके में सन्नाटा पसरा हुआ था। बस आवाज थी जो उस बूटों की जो पोर्स इलाकें में पैट्रोलिंग कर रही थी। इसके बाद हमने इलाके के लोगों से बात करने की कोशिश की तो लोग इतना डरे हुए थे कि मीडियाकर्मियों से बात करने से भी बच रहे थे। लेकिन इसके बाद भी कुछ लोग हमसे बात करने के लिए सामने आए।

करन नाम के व्यक्ति ने बताया कि यात्रा शांति पूर्ण तरीके से निकल रही थी और मस्जिद के सामने पहुंचते ही यात्रा पर अचानक से पत्थरबाजी होने लगी। उन्होंने बताया कि हिंदुओं के हाथ में कोई हथियार नहीं था सभी हाथों में भगवा झंडा लेकर आगे बढ़ रहे थे। इसी बीच मुसलमानों ने हमारे ऊपर पत्थरबाजी शुरू कर दी और बड़ी संख्या में मुस्लिम लोग हाथों में नंगी तलवारें लहराते हुए सड़कों पर आ गए।

वहीं एक महिला ने बताया कि यात्रा बिल्कुल शांति से निकल रही थी। यात्रा में शामिल लोग नाचते गाते हुए और जय श्री राम व भारत माता कि जय के नारे लगाते हुए आगे बढ़ रहे थे। जैसे ही मस्जिद के पास यात्रा पहुंची मुस्लिम समुदाय के लोग पत्थरबाजी करते हुए कांच की बोतलें हमारे ऊपर फेंकन लगे।

महिला ने आगे बताया कि यह सिर्फ शोभायात्रा के दौरान नहीं हुआ बल्कि जहांगीरपूरी इलाके में आए दिन मुस्लिम समुदाय के लोग हिंदू समुदाय के लोगों को टारगेट करके कभी हिंदुओं को चाकू मार देते ही तो कभी हिंदुओं की लड़कियों को छेड़ते हैं। इतना ही नहीं हमारी बेटियों का रोड पर निकला भी दुर्लभ कर रखा है।

भले ही दिल्ली पुलिस और सुरक्षा ऐजेंसियां यह हिंसा एक घटना है या साजिश इसका पता लगाने में जुटी हों लेकिन कुछ अनसुलझे सवाल काफी कुछ बयां कर रहे हैं। दिल्ली जहांगीरपुरी हिंसा के कुछ अनसुलझे सवाल…

• पीछे से आ रहे जुलूस पर मस्जिद के सामने ही हमला क्यों हुआ?
• अचानक से हजारों की संख्या में मुस्लिम समुदाय के लोग इकठ्ठा कैसे हो गए?
• अचानक से सभी के हाथों में तलवारें, चाकू जैसे धारदार हथियार कहां से आए?
• इतनी बड़ी मात्रा में सड़क पर ईंट, पत्थर और कांच की बोतलें कैसे आ गईं?
• हालात काबू करने वाली दिल्ली पुलिस पर मुसलमानों ने हमला क्यों किया?
• ऐसी कौन सी वजह थी जिसके कारण मुसलमानों मे जुलूस पर हमला किया?
• अगर हनुमान जयंती के जुलूस में शामिल लोगों ने कुछ उपद्रव किया तो पुलिस को सूचना क्यों नहीं दी गई?
• गिरफ्तार सभी आरोपी मुस्लिम ही क्यों?

खरगोन हिंसा: बच्चे की खोज में निकली माँ लापता, परिजनों ने पुलिस के साथ ही RSS के स्थानीय कार्यकर्ताओं से भी खोजने की लगाई गुहार

By Kajal Singh