Parliament: सनी देओल से लेकर शत्रुघ्न सिन्हा तक, 9 सांसद ऐसे जिन्होंने संसद में नहीं बोला एक शब्द

Parliament: अभिनेता शत्रुघ्न सिन्हा और सनी देओल के नाम बॉक्स ऑफिस के कई रिकॉर्ड हैं, लेकिन सांसद के रूप में, यह एक ऐसा रिकॉर्ड है जिस पर उन्हें गर्व नहीं हो सकता है।लोकसभा सचिवालय द्वारा साझा किए गए विवरण के अनुसार, 17वीं लोकसभा में दो हिंदी फिल्म सुपरस्टार और संसद सदस्यों ने एक बार भी सदन में बात नहीं की।

Parliament: आपको बता दें कि,संसद की 17वीं लोकसभा में आखिरी सत्र संपन्न हो गया। इन पांच सालों में तमाम सांसदों ने बताैर प्रतिनिधि अपने अपने इलाके के लोगों के सरोकार, मुृद्दे और आवाज को सदन में उठाने की कोशिश की। लेकिन लोकसभा के 543 सांसदों में से कुछ ऐसे भी थे, जिन्होंने संसदीय गतिविधि में न के बराबर भाग लिया। इनमें प्रमुख नाम ‘गदर’ व ‘गदर2’ जैसी फिल्मों के हीरो सनी देओल और पूर्व मंत्री व सांसद रह चुके शत्रुघ्न सिन्हा भी शामिल हैं।

सांसद शत्रुघ्न सिन्हा ने प्रश्न काल में भी नहीं पूछे प्रश्न

Parliament: टीएमसी के सांसद शत्रुघ्न सिन्हा ने 2022 में उपचुनाव जीता था और उसी साल अप्रैल में लोकसभा में लौटे थे। जबकि सिन्हा ने प्रश्नकाल में कोई प्रश्न नहीं पूछा। उन्होंने नियम 377 या किसी विशेष प्रस्ताव के तहत किसी भी चर्चा में हिस्सा नहीं लिया। 17वीं लोकसभा ने एक तरह का रिकॉर्ड बनाया, जिससे हर पहली बार सांसद को बोलने का मौका मिला। लेकिन नौ सांसदों ने हिस्सा नहीं लिया।

लोकसभा सूत्रों के मुताबिक, बंगाल से टीएमसी सांसद दिब्येंदु अधिकारी, कर्नाटक से बीजेपी सांसद व पूर्व राज्य मंत्री अनंत कुमार हेगड़े, बीजेपी सांसद वी श्रीनिवास प्रसाद और बीजेपी सांसद बी एन बचे गौडा, पंजाब से बीजेपी सांसद सनी देओल, असम से बीजेपी सांसद प्रदान बरुआ ऐसे सांसद हैं, जो लोकसभा के अपने पांच साल के कार्यकाल में सदन में एक शब्द भी नहीं बोले।

इन लोगों ने किसी भी संबोधन व चर्चा में भाग नहीं लिया। हालांकि इन सांसदों ने भले मौखिक रूप से कोई भागीदारी न दिखाई हो, लेकिन लिखित रूप से भागीदारी जरूर दिखाई।

वहीं दूसरी ओर संसद में तीन सांसद ऐसे भी थे, जिन्होंने सदन में लिखित या मौखिक किसी भी रूप में अपनी भागीदारी दर्ज नहीं कराई। इनमें बॉलिवुड से नेता बने वेस्ट बंगाल से टीएमसी सांसद शत्रुघ्न सिन्हा, यूपी से बीएसपी सांसद अतुल राय और कर्नाटक से बीजेपी सांसद व पूर्व राज्य मंत्री रमेश सी जिगजिगानी शामिल हैं।

केरल और राजस्थान के सांसदों ने लिया डिबेट में सबसे ज़्यादा भाग

Parliament: गैर-सरकारी संगठन पीआरएस लेजिस्लेटिव रिसर्च को मिले आंकड़ों के मुताबिक 17वीं लोकसभा के दौरान सांसदों ने औसतन 45 डिबेट में हिस्सा लिया जिसमें केरल और राजस्थान के सांसदों ने बहस सबसे अधिक बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया ।

Written By: Vineet Attri 

ये भी पढ़ें..

अबू धाबी, UAE: पीएम मोदी आज मंगलवार को स्वामीनारायण हिंदू मंदिर का करेंगे उद्घाटन, भारतीय मूल के लोगों को भी करेंगे संबोधित
Farmer Protest 2024: सरवन सिंह पंढेर का बड़ा बयान, दिल्ली एनसीआर में पुलिस ने किए सुरक्षा के कड़े इंतजाम

By Nyasha Jain