Shivraj patil: शिवराज पाटिल का 'भगवत गीता' पर विवादित बयान,काँग्रेस ने...

Shivraj patil: शिवराज पाटिल का ‘भगवत गीता’ पर विवादित बयान,काँग्रेस ने पल्ला झाड़ा

Shivraj patil

Shivraj patil: देश की सबसे पुरानी राजनीतिक पार्टी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में असंतोष खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है। एक तरफ जंहा पार्टी संगठन को मजबूत करने की कोशिशों में लगी पड़ी है वही कांग्रेस का संकट उतना गहराता जा रहा है। क्योंकि कांग्रेस पार्टी के ही कुछ महान नेता इसका बेड़ागर्क करने में लगे हैं।

Shivraj patil: 2008 में मुंबई में हुए आतंकी हमलों के बाद उन्हें इस्तीफा देना पड़ा था। उससे पहले जब उसी साल दिल्ली में सीरियल ब्लास्ट हुए थे तो वे बार-बार अपने कपड़े बदलने को लेकर विवादों में आ गए थे। अब उन्हीं पाटिल ने जिहाद पर ‘गीता ज्ञान’ दिया है। उनका कहना है कि गीता में ‘श्रीकृष्ण’ ने ‘अर्जुन’ से जो कहा वह ‘जिहाद’ ही था। हांलांकि, काँग्रेस ने शिवराज पाटिल के बयान से पल्ला झाड़ा लिया।

Shivraj patil: कांग्रेस के महासचिव जयराम रमेश ने ट्वीट किया, ‘मेरे वरिष्ठ सहयोगी शिवराज पाटिल ने कथित तौर पर भगवद गीता पर कुछ टिप्पणी की जो अस्वीकार्य है। इसके बाद उन्होंने सफाई दी। कांग्रेस का रुख साफ है। भगवद गीता भारतीय सभ्यता का एक प्रमुख आधारभूत स्तंभ है।

जयराम रमेश ने पूर्व प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू द्वारा लिखी गई किताबडिस्कवरी आफ इंडियाके कुछ भाग को शेयर किया, जिसमें पूर्व प्रधानमंत्री ने लिखा है, ‘गीता का संदेश किसी एक संप्रदाय से संबंधित नहीं है और न ही इसे किसी स्कूल में लि

अभी 2 दिन पहले ही देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस को अपना नया अध्यक्ष 80 साल के मल्लिकार्जुन खड़गे के रूप में मिला है। खड़गे कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता हैं ऐसे में उनके हाथ में पार्टी की कमान जाने के बाद से ही उम्मीदें लगाई जा रही है कि अब बिखरी हुई कांग्रेस में नई जान के साथ सामने आएगी।

Shivraj patil: एक तरफ जहां पार्टी को मजबूती देने का काम किया जा रहा है तो वहीं, दूसरी तरफ पार्टी के ही लोग उसकी मुश्किलें बढ़ाने में लगे हुए हैं। बात हो रही है कांग्रेस नेता और पूर्व गृह मंत्री शिवराज पाटिल की , मनमोहन सिंह के नेतृत्व वाले यूपीए सरकार में शिवराज पाटिल गृ​ह मंत्री हुआ करते थे।

2008 में मुंबई में हुए आतंकी हमलों के बाद उन्हें इस्तीफा देना पड़ा था। उससे पहले जब उसी साल दिल्ली में सीरियल ब्लास्ट हुए थे तो वे बार-बार अपने कपड़े बदलने को लेकर विवादों में आ गए थे। अब उन्हीं पाटिल ने जिहाद पर ‘गीता ज्ञान’ दिया है। उनका कहना है कि गीता में श्रीकृष्ण ने अर्जुन से जो कहा वह ‘जिहाद’ ही था।

काँग्रेस की नेता मोहसिना किदवई की किताब विमोचन के दौरान शिवराज पाटिल ने हिंदुओं के धार्मिक ग्रंथ गीता को लेकर ऐसा बयान दे दिया जिसके बाद भारतीय जनता पार्टी हमलावर हो गई है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय गृह मंत्री शिवराज पाटिल एक बार फिर सुर्खियों में हैं।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने दावा किया कि जिहाद की अवधारणा न केवल इस्लाम में बल्कि भगवद गीता और ईसाई धर्म में भी है। भाजपा ने पाटिल की टिप्पणी को लेकर कांग्रेस पर निशाना साधा और उस पर वोट बैंक की राजनीति करने का आरोप लगाया।

शिवराज पाटिल ने गीता में जिहाद का उदाहरण देते हुए कहा कि जब हर संभव कोशिशों और स्वच्छ विचारों के बावजूद कोई नहीं समझता तो फिर बल का इस्तेमाल करना चाहिए। महाभारत में भी गीता के भी एक भाग में जिहाद है जहां पर श्रीकृष्ण जी ने अर्जुन को जिहाद का पाठ पढ़ाया था।

Shivraj patil: काँग्रेस नेता हिंदू देवी देवताओं का मज़ाक उड़ाने का कोई भी मौका नहीं छोड़ते हैं। कांग्रेस अपनी आदत से मजबूर है, जमीन फट जाए या आसमान निगल जाए। लेकिन कांग्रेस सनातन संस्कृति से घृणा न करे, ऐसा हो ही नहीं सकता। कांग्रेसी नेता आये दिन सनातन संस्कृति और हिंदुओं के विरुद्ध जहर उगलते आए हैं।

वैसे काँग्रेस नेताओं के लिए हिंदू धर्म को अपमानित करना नया नहीं है। भगवा आतंकवाद की थ्योरी भी काँग्रेसियों ने उसी तरह गढ़ी थी, जैसे पाटिल ने जिहाद को गीता से जोड़ा। उन्‍होंने यह बताने की कोशिश की कि जिहाद का काँसेप्ट गीता का भी हिस्सा है और श्रीकृष्‍ण ने अर्जुन को इसका पाठ पढ़ाया था।

वैसे तो केरल प्रदेश काँग्रेस समिति के अध्यक्ष सुधाकरन अक्‍सर अपने अजीबोगरीब बयानों के लिए सुर्खियों में रहते हैं, लेकिन इस बार तो उन्होंने भगवान श्रीराम का अपमान किया था। उन्होंने एक अखबार को दिए गए साक्षात्कार के दौरान  न सिर्फ भगवान राम, माँ सीता और लक्ष्‍मण का अपमान किया, बल्कि रामायण में वर्णित तथ्यों को तोड़-मरोड़ कर पेश किया।

Shivraj patil: श्री कृष्ण और गीता पर ज्ञान देने से पहले उन्होंने भगवन राम की रामायण को भी नहीं छोड़ा, भगवन राम के भाई लक्ष्मण के चरित्र पर ही सवाल खड़ा कर दिए थे।  उन्होंने ‘राम को समुद्र में धकेल कर सीता के साथ जाना चाहते थे लक्ष्मण’…

अब इस पर जब उनसे पुछा गया की अपने ऐसा क्यों कहा तो उनका कहना था की उन्होंने बचपन में ऐसी कहानी सुनी थी इसलिए वो ऐसा बोले… अब जिसको न जिहाद के बारे में पता न रामायण और उसकी मर्यादा के बारे में ज्ञान… फिर भी ऐसे बड़े बोल कैसे बोल जाते हैं?

शिवराज पाटिल ने गीता में जिहाद वाले बयान पर सफाई देते हुए कहा, हिंदू धर्म में जिहाद जो है वो किसी भी सही बोलने वाले आदमी को मारेंगे तो वो जिहाद है। आप महात्मा गांधी को मारेंगे तो वो भी जिहाद ही है। इस दौरान कांग्रेस नेता पत्रकार पर भड़कते हुए दिखाई दिए। वो कहते है कि महात्मा गाँधी को किसने मारा… उसको हम जिहाद बोलेंगे। उस कृत्य को हम जिहाद बोलेंगे।

Shivraj patil: कांग्रेस शुरु से ही सनातन विरोधी रही है, इस पार्टी के नेता सार्वजनिक तौर पर हिंदुओं को लेकर जहर उगलते दिखे हैं। ‘हिंदू आतंकवाद’ शब्द को सार्वजनिक डोमेन में लाने वाले कांग्रेसी ही हैं। कांग्रेस पार्टी मोदी विरोध करते-करते कभी देश विरोध तो कभी हिंदू विरोध पर उतरती रही है।

बात करें साल 2022 की तो ये कांग्रेस के लिए सबसे बुरा साल साबित हो रहा है। 2022 के अभी आठ महीने भी पूरे नहीं हुए हैं और अब तक 12 बड़े नेता असंतोष की वजह से कांग्रेस छोड़ चुके हैं।

ऐसे में कांग्रेस नेताओ के ये बड़बोले बयान पार्टी के लिए खतरा साबित हो सकते हैं और बीजेपी का मूल मंत्र आज भी ‘हिंदुत्व’ ही है, जबकि विपक्ष आज भी इस उलझन में है कि उसे ‘हिंदुत्व’ को अपनाना है या उसका विरोध करना है।

ये भी पढ़ें…

Fake Gaziabad Gang Rape: फर्ज़ी था गाजियाबाद गैंगरेप मामला, महिला ने दोस्त के साथ रची खुद के रेप की घिनौनी साजिश
उत्तराखंड: पीएम मोदी ने 3400 करोड़ रूपये की कनेक्टिविटी परियोजनाओं की रखी आधारशिला
By Atul Sharma

बेबाक लिखती है मेरी कलम, देशद्रोहियों की लेती है अच्छे से खबर, मेरी कलम ही मेरी पहचान है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.