Sale: फ्लिपकार्ट से मंगाया लैपटॉप, बॉक्स खोलने पर निकला घड़ी साबुन, कंपनी ने..

Sale: फ्लिपकार्ट से मंगाया लैपटॉप, बॉक्स खोलने पर निकला घड़ी साबुन, कंपनी ने वापसी के लिए किया इंकार

मंगाया लैपटॉप निकला घड़ी साबुन

Sale: त्यौहारों का सिलसिला शुरू हो गया है। ई- कॉमर्स वेबसाइटों ने बंपर ऑफर देने शुरू कर दिए हैं और लोगों ने ऑनलाइन समान खरीदना शुरू कर दिया है। लेकिन इसी बीच लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। एक विद्यार्थी इसका शिकार हुआ है, लैपटॉप की जगह बॉक्स में घड़ी साबुन निकला है। जिसकी शिकायत जब कंपनी से की गई तो उन्होंने वापसी के लिए साफ मना कर दिया। जिसकी जानकारी IIM अहमदाबाद के  विद्यार्थी यशस्वी शर्मा ने सोशल मीडिया पर दी है। लैपटॉप की कीमत 50 हजार थी।

पिता के लिए मंगाया था लैपटॉप, अफसोस निकला घड़ी साबुन

बिजनेस टुडे की रिपोर्ट के मुताबिक विद्यार्थी यशस्वी शर्मा ने फ्लिपकार्ट पर चल रहे बिग बिलियन डेज सेल से अपने पिता के लिए लैपटॉप ऑर्डर कराया था। उसने सोशल मीडिया पर लिखा- मैंने अपने पिता के लिए लैपटॉप ऑर्डर किया था, लेकिन फ्लिपकार्ट ने घड़ी साबुन भिजवा दिया। मैंने कस्टमर केयर से शिकायत की तो उसने अपनी गलती मानने से इंकार कर दिया।

Sale: आगे लिखा है, कि कस्टमर केयर ने सीसीटीवी के सबूत भी मानने से मना कर दिया। फ्लिपकार्ट के सीनियर कस्टमर केयर एग्जिक्यूटिव ने यशस्वी से साफ शब्दों में कह दिया- नो रिटर्न पॉसिबल। यशस्वी ने पोस्ट में फ्लिपकार्ट के CEO कल्याण कृष्णमूर्ति और केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल को भी टैग किया।

सोशल मीडिया पर यशस्वी ने अपने पिता की गलती का भी जिक्र करते हुए लिखा है, कि जब डिलीवरी बॉय सामान डिलीवर करने आया तब उसके पिता से एक गलती हो गई। गलती यह कि उसके पिता को ‘ओपन-बॉक्स’ डिलीवरी के बारे में पता नहीं था, कि डिलीवरी लेते समय रिसीवर को डिलीवरी बॉय के सामने ही पैकेट खोलना पड़ता है और आइटम देखने के बाद ही OTP देना होता है।

Sale: यशस्वी ने आगे बताया, कि उसके पास अनबॉक्सिंग की CCTV फुटेज है। उसने आगे लिखा कि डिलीवरी बॉय ने अपने कस्टमर को ओपन बॉक्स कॉन्सेप्ट के बारे में क्यों नहीं बताया? बाद में अनबॉक्सिंग से पता चला कि अंदर कोई लैपटॉप नहीं बल्कि घड़ी साबुन है। याद रहे अगर आप कोई कीमती चीज मंगा रहे हैं, तो नियमों के अनुसार खोलकर देख लें कहीं आपको भी यशस्वी की तरह परेशानी का सामना न करना पड़ जाये।

ये भी पढ़ें..

Up News: शिक्षक की पिटाई से दलित छात्र की 18 दिन बाद मौत, प्रदर्शन के दौरान पुलिस की गाड़ी फूंकी

Action: सरकार ने 10 यूट्यूब चैनलों के 45 वीडियो किए ब्लॉक, फेक न्यूज फैलाने के साथ कर रहे थे देश का माहौल खराब

By Rohit Attri

मानवता की आवाज़ बिना किसी के मोहताज हुए, अपने शब्दों में बेबाक लिखता हूँ.. ✍️

Leave a Reply

Your email address will not be published.