Bareilly News: मंदिर में चोरी करने घुसा रोहित, बाहर मोहम्मद जुबैर बनकर..

Bareilly News: मंदिर में चोरी करने घुसा रोहित, बाहर मोहम्मद जुबैर बनकर निकला, फोन पे से हुआ खुलासा

Mohammad jubair

Bareilly News: कोई यूं ही बदनाम नहीं हो जाता साहब, कहीं न कहीं गलती की गई होती हैं। एक ऐसी ही समुदाय विशेष को बदनाम करने वाली खबर उत्तर प्रदेश के जिला बरेली से आई है, जहाँ बड़ा बाग हनुमान नाम से प्रसिध्द एक मंदिर में एक युवक अपनी पहचान छिपाकर घुस गया। उसने मंदिर में चढ़े रुपये चुरा लिए, उसे मंदिर परिसर में श्रध्दालुओं ने दबोच लिया और पिटाई कर दी।

पकड़े जाने पर उसने अपना नाम रोहित बताया। लोगों ने उससे उसका पहचान पत्र मांगा तो उसने बताया कि उसके पास पहचान पत्र नहीं है। जब उससे कड़ाई से पूछताछ की गई तो वो रोहित नहीं बल्कि मोहम्मद जुबैर निकला। लोगों ने युवक का वीडियो बनाकर सोशल मीडिया में डाल दिया जो अब वायरल हो रहा है।

फोन पे ने बता दिया धर्म

प्रसिध्द बड़ा बाग हनुमान मंदिर परिसर में मौजूद लोगों को उसकी बातों से संदेह हुआ तो कड़ाई से पूछताछ की। वहां मौजूद कुछ लोगों ने उससे, उसका मोबाइल मांगा। लोगों ने उसके मोबाइल में उसका फोन पे खोलकर देखा तो वहाँ उसका नाम मोहम्मद जुबैर निकला। तब उसने अपना नाम मोहम्मद जुबैर होना स्वीकार कर लिया। उसने बताया कि वो किला थाना क्षेत्र के बाकरगंज इलाके में किराए के मकान में रहता है। इस पूरे मामले की जानकारी जब हिंदू संगठनों को हुई तो वो भी मंदिर पहुंचे और उसे पुलिस के हवाले कर दिया।

पुलिस ने किया गिरफ्तार

Bareilly News: मामले को लेकर एसपी सिटी राहुल भाटी ने बताया कि प्रेमनगर स्थित बड़े बाग हनुमान मंदिर में एक युवक चोरी करते हुए पकड़ा गया। जिसके बाद उसने अपना नाम रोहित बताया और फिर पूछताछ करने पर असली नाम मोहम्मद जुबैर बताया है। उसको गिरफ्तार कर लिया गया है। एसपी ने बताया कि उसके खिलाफ आईपीसी की धारा 380, 506, 511, 295 ए के तहत मुकदमा दर्ज कर अग्रिम कार्रवाई की जा रही है।

ये भी पढ़ें..

Muzaffarnagar: कवाल कांड में भाजपा विधायक सहित 12 दोषियों को 2 साल की सजा, 10-10 हजार का लगा जुर्माना

Up News: भाजपा नेता की कार पर चस्पा किया ‘सिर तन से जुदा’ की धमकी भरा पत्र, रखा 4 लाख ईनाम

By Rohit Attri

मानवता की आवाज़ बिना किसी के मोहताज हुए, अपने शब्दों में बेबाक लिखता हूँ.. ✍️

Leave a Reply

Your email address will not be published.