Bhopal: जिहादियों ने निशंक को मौत के घाट उतारा, संदेश लिखा- आपका बेटा

Bhopal: जिहादियों ने निशांक को मौत के घाट उतारा, संदेश लिखा- आपका बेटा बहुत बहादुर था, पर ग़ुस्ताख़ नबी की एक ही ‘सजा सर तन से जुदा’

निशंक राठौर

Bhopal: इन दिनों सोशल मीडिया में ही नहीं बल्कि सामान्य लोगों में भी एक नारा खौफ का सबब बना हुआ है। “गुस्ताख ए रसूल की एक ही सजा, सर तन से जुदा, तन सर से जुदा”। सोशल मीडिया पर इस तरह के नारे जब वायरल होते हैं जिनसे देश का माहौल तो ख़राब होता ही है साथ ही कुछ गैर समुदाय के लोगो द्वारा शांति भी भंग करने की कोशिश की जाती है।

उदयपुर वाली घटना के बाद देश में जो बवाल मचा था वो अब तक ताज़ा है। उस घटना को हुए काफी समय हो गया लेकिन उस घटना को कोई भूला नहीं है और ये मामला अभी शांत भी नहीं हुआ था की ऐसी ही दो घटनाएं फिर सामने आ गयी हैं। सबसे पहले आपको बता देते हैं भोपाल से जो घटना सामने आई है जिसने सनसनी फैला दी है।

भोपाल के नर्मदापुरम रेलवे ट्रक पर एक 20 साल के इंजिनियर छात्र का शव मिला है, जिसका नाम निशंक राठौर बताया गया है, पुलिस ने जब जांच की तो पता चला की ये एक आत्महत्या का केस है, लेकिन फिर इस कहानी में आता है एक नया मोड़। होता ये है की निशांक के पिता को एक मैसेज आता है जिसमे लिखा होता है गुस्ताख-ए-नबी की एक ही सजा, सिर तन से जुदा।

Bhopal: ये ठीक वैसा ही संदेश था जैसा कन्हैयालाल की हत्या के समय सामने आया था। मैसेज के बाद ये गुत्थी और उलझ गयी। हालाँकि निशंक के परिवार वालों का कहना है कि उनका बेटा आत्महत्या नहीं कर सकता बाकि ये एक मर्डर केस है।

घटना को आत्महत्या का रूप देने की कोशिश

भोपाल सिवनी मालवा का रहने वाला निशंक ओरिएंटल कॉलेज से इंजिनियर की पढ़ाई कर रहा था। पुलिस को निशांक का मोबाइल उसके शव के पास ही मिला। घटना की रात आठ बजे छात्र के पिता और उसके दोस्तों के वाट्सअप पर एक स्क्रीनशॉट पहुंचा। इसमें छात्र का फोटो है। साथ ही लिखा है कि ‘नबी से गुस्ताखी नहीं, राठौर साहब बहुत बहादुर था आपका बेटा, गुस्ताख-ए-नबी की एक सजा, सर तन से जुदा।’ यह मैसेज मिलने के बाद छात्र के परिजनों ने हत्या की आशंका जताई है। पुलिस भी अब सभी पहुलओं पर जांच कर रही है।

Bhopal: इसमें क्रिप्टो का एंगल भी आया सामने आया है दरअसल निशांक क्रिप्टो करेंसी में ट्रेडिंग कर रहा था। उसे कथित तौर पर नुकसान भी हुआ था। पिछले कुछ दिन से उसके पिताजी उससे बैंक स्टेटमेंट मांग रहे थे। इससे वह परेशान लग रहा था। पुलिस को कोई ऐसी पोस्ट नहीं मिली, जो किसी धर्म से जुड़ी हो। सोशल मीडिया पर ऐसे भी मैसेज मिले हैं, जिनमें उसके दोस्तों ने उधारी चुकाने की बात लिखी है।

कुछ दोस्तों को स्क्रीनशॉट भेजा गया था। इसमें निशांक की तस्वीर पर लाल रंग से क्रॉस बना था और लिखा था गुस्ताख-ए-नबी की एक सजा, सर तन से जुदा।

ये भी पढ़ें…

Asaduddin Owaisi: भाजपा के “सबका साथ, सबका विकास” वाले नारे पर कसा तंज, ओवैसी बोले- हमारे पैरों की भी करिये मालिस

राष्ट्रवाद: हर घर तिरंगा लहराने से विपक्ष क्यों है परेशान?

By Susheel Chaudhary

मेरे शब्द ही मेरा हथियार है, मुझे मेरे वतन से बेहद प्यार है, अपनी ज़िद पर आ जाऊं तो, देश की तरफ बढ़ते नापाक कदम तो क्या, आंधियों का रुख भी मोड़ सकता हूं ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.