Bihar News: 9 वर्ष की बच्ची के दुष्कर्म का आरोपी मोहम्मद सगीर बना भीड़ का शिकार, उतारा मौत के घाट

bihar police

Bihar News: एक ऐसा मामला सामने आया है, जिसमें न थाना- चौकी न कोर्ट- कचहरी भीड़ का सीधा जवाब। बिहार के कटिहार से ये खबर कुछ लोगों को गलत लग सकती है, लेकिन दुराचारी लोगों के लिए कुछ हद तक ये ठीक भी है। शायद, लोगों को जब अदालतों से न्याय की उम्मीद उठ जाती है, तो ये आक्रोश क्या कुछ नहीं कर देता। ये उन न्यायाधीसों के मुँह पर तमाचा है, जो आरोप सिद्ध होने के बाद भी पीड़ितों को अदालतों के चक्कर लगवाते रहते हैं। लेकिन सही फैसला नहीं सुना पाते।

क्या था पूरा मामला?

मामला बिहार में कटिहार के हसनगंज थाना क्षेत्र में 9 वर्षीय बच्ची के साथ दुष्कर्म का आरोपी मोहम्मद सगीर की आक्रोशित भीड़ ने पीट-पीटकर हत्या कर दी। बच्ची की माँ ने बताया, कि वो बच्ची के साथ घर के बरामदे में सोई हुई थी। रात 2 बजे पड़ोस का रहने वाला मोहम्मद सगीर उनकी बेटी को उठाकर ले गया। जब उसकी नींद खुली और अपनी बेटी को अपने पास नहीं पाया तो रात में ही खोजबीन करने के लिए सभी लोग निकले।

इसी दौरान हसनगंज बाजार में गैस गोदाम के पास बेटी और मोहम्मद सगीर बिना कपड़ों के मिले। वो बच्ची के साथ गलत काम कर रहा था। ये देखकर परिजन काफी उग्र हो गए। आरोपी को पकड़कर पेड़ से बांध दिया गया। जब अन्य ग्रामीणों को इसके बारे में पता चला तो लोग काफी उग्र हो गए और आरोपी की जमकर पिटाई कर दी। आरोपी मोहम्मद सगीर पर पूर्व में भी दुष्कर्म का आरोप है और कोर्ट में भी केस चल रहा है।

पुलिस ले जा रही थी छुड़ाकर, रास्ते में ही हो गई मौत

Bihar News: हसनगंज थाना प्रभारी रामचंद्र मंडल ने बताया कि जैसे ही उन्हें घटना की जानकारी मिली, तो वो तत्काल मौके पर पहुंचे और आरोपी को ग्रामीणों के चंगुल से छुड़ाकर अस्पताल ले ही जा रहे थे, कि रास्ते में ही उसकी मौत हो गई। उन्होंने कहा कि इस घटना में जो भी दोषी है, उन्हें बख्शा नहीं जाएगा। मौत के बाद पुलिस द्वारा शव को पोस्टमॉर्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दिया गया।

ये भी पढ़ें..

Up News: थोड़े से कर्ज की सजा-ए-मौत, 3 महिलाओं ने पतियों के साथ मिलकर एक शख्स का कर दिया खेल खत्म

RSS: अच्छे करियर के लिए इंग्लिश जरूरी नहीं, 80 फीसदी बड़े लोगों ने मातृभाषा मुहैया संस्थानों से की मैट्रिक की पढ़ाई- मोहन भागवत

By Rohit Attri

मानवता की आवाज़ बिना किसी के मोहताज हुए, अपने शब्दों में बेबाक लिखता हूँ.. ✍️