Gaziabad: “तू चालू औरत है’ कहने पर प्रेमिका ने फिरोज का किया सिर तन से जुदा

Gaziyabad:

Gaziabad:  गाजियाबाद के टीला मोड़ क्षेत्र में एक युवती ने बड़े ही चालाकी से 4 साल तक लिव इन रिलेशनशिप में रही और फिर पार्टनर का गला रेत कर उसे मौत के घाट उतार दिया।
शव को में बैग पैक कर फेंकने की साजिश दो दिन पहले ही की थी लेकिन पुलिस ने मौके पर ही दबोच लिया।

Gaziabad:  पुलिस के मुताबिक जब आधी रात को पुलिस टीला मोड़ क्षेत्र में गस्त कर रही थी के तभी महिला वहां से एक बड़ी सी ट्रॉली बैग को घसीटते हुए ले जा रही थी।
पुलिस की नजर जब महिला पर पड़ी तो महिला घबरा गई और पुलिस से बचने की कोशिश में वह जल्दी जल्दी रोड क्रॉस करने लगी के तभी पुलिस ने उसे दबोच लिया और जब पुलिस ने बैग को उठाया तो बैग काफी वजन था।

Gaziabad:  लेकिन महिला ने फिर भी जुबान नहीं खोली कि इस बैग में किसी का शव है पुलिस ने जब बैग खोल कर चेक कराने को कहा तो महिला और घबरा गई।
पर पुलिस ने अपना काम करते हुए जब उस बैग को खोला तो उसमें एक पुरुष का शव मिला।

इसके बाद पुलिस ने महिला को हिरासत में ले लिया पूछताछ में महिला ने अपना नाम प्रीती पत्नी दीपक यादव फ्लैट नंबर181 तुलसी निकेतन गाजियाबाद बताया वहीं जब महिला से शव के बारे में पूछा गया तो महिला ने बताया की शव उसके लिव इन रिलेशनशिप पार्टनर फिरोज पुत्र इकबाल निवासी संभल बताया।

महिला ने आगे की कहानी भी बताई उसने कहा की मैं फिरोज के साथ 4साल से रिलेशनशिप में रहती थी लेकिन शनिवार रविवार के मध्यरात्रि प्रीती और फिरोज में जल्दी शादी को लेकर विवाद शुरू हो गया उस विवाद में कहा सुनी के दौरान फिरोज ने प्रीती को कहा कि तू तो चालू पूरे है तू अपने पति की नहीं हुए तो मेरी क्या होगी,
इसी बात को लेकर प्रीती ने बिना सोचे समझे फिरोज के ही घर में रखे उस्तरे से उसका गला रेत कर मौत के घाट उतर दिया

बताया भी जा रहा है कि प्रीती ने पहले से ही इसकी तैयारी कर चुकी थी। सात अगस्त को दिन में प्रीति दिल्ली के सीलमपुर से एक ट्रॉली बैग खरीद कर लाई। बीती रात प्रीति फिरोज के शव को ट्रॉली बैग में रखकर गाजियाबाद रेलवे स्टेशन पर किसी ट्रेन में रखने जा रही थी के तभी पुलिस ने पकड़ लिया। फिरोज दिल्ली में नाई का काम करता था।

ShriKant Tyagi Arrested: श्रीकांत को पुलिस ने मेरठ से धर दबोचा, नोएडा में महिला के साथ गाली-गलोच का आरोप
आजादी की कहानी 2: देश के लिए आजाद हुए आजाद की सोच को सैल्यूट

By Kajal Singh