Palayan: कानपुर में शांतिदूतों ने हिंदू को दी धमकी, 'बजरंग दल छोड़ दो वरना काट देंगे गर्दन'

Palayan: कानपुर में शांतिदूतों ने हिंदू को दी धमकी,”बजरंग दल छोड़ दो वरना काट देंगे गर्दन”, पुलिस ने नहीं की कोई कार्यवाही

Palayan

Palayan: पलायन का दंश देश के लोग अब तक झेल रहे है।पलायन का दर्द क्या होता है आप कश्मीरी पंडितों से पूछ सकते हो। जो अपना सब कुछ छोड़कर आए है। पलायन करने वालों से जब भी पूछते है तो उनका दर्द उनकी आँखों से झलक जाता है। जब बताते है कि उनका सपनों का घर था, अच्छी नौकरी या फलता-फूलता व्यापार था। जिसको छोड़ कर आना पड़ा क्योंकि उनको अपनी और अपनों की जान बचानी थी। ये तो हुई कश्मीर की बात वहाँ पर आतंकी उनको धमकाते हुए कहते है कि इस्लाम को कबूल कर लो नहीं तो तुम्हें जान से मार देंगे, तुम्हारी बहन-बेटियों को उठा ले जाएंगे। और अगर ऐसा ही कुछ आपको यूपी के कानपुर में सुनने को मिले तो आप के दिल पर क्या गुजरेगी?  जी हाँ आपने सही सुना ये सब हुआ योगी आदित्यनाथ के यूपी के कानपुर शहर में जब शांतिदूतों ने एक हिंदू को धमकाते हुए कहा कि “बजरंग दल छोड़ दो वरना काट देंगे गर्दन”…

आप को बता दें ये सब कानपुर के गुजैनी मर्दनपुर निवासी रितिक वर्मा के साथ हुआ है। उसने पुलिस को बताया कि आए दिन विशेष संप्रदाय के लोग उसको घर आकर धमकाते है। गत रविवार को आरोपी अनीस अली, शहंशाह आलम, मेहरूखान, मोहम्मद साहिल सहित मोहल्ले के आठ से दस लोग फसके घर में आए। और जान से मारने की धमकी देते हुए कहा कि “बजरंग दल छोड़ दो वरना काट देंगे गर्दन”… उसके बाद रितिक इतना डर गया कि उसने घर के गेट के आगे पोस्टर चस्पा कर दिया कि ‘ये माकान बिकाऊ है’…  

बीते बुधवार 22 जून को पीड़ित परिवार ने घर के बाहर मुख्यमंत्री जी हम असुरक्षा के कारण परिवार सहित पलायन कर रहे हैं लिखकर पोस्टर चस्पा कर दिया। एसीपी गोविंदनगर विकास पांडे ने बताया कि मामले में रिपोर्ट दर्ज की जा चुकी है। रिपोर्ट दर्ज होने के बाद वहां दो पुलिस कर्मी भी तैनात किए गए थे।

Bhagat Singh: राख का हर एक कण मेरी गर्मी से गतिमान है, मैं एक ऐसा पागल हूँ जो जेल में भी आज़ाद है
UP News: गाजियाबाद में धर्मांतरण का मामला, 9 साल के हिंदू बच्चे सोनू का किया जबरन खतना
By Atul Sharma

बेबाक लिखती है मेरी कलम, देशद्रोहियों की लेती है अच्छे से खबर, मेरी कलम ही मेरी पहचान है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.