Punjab News: अस्पताल के स्टाफ ने मना किया तो गरीब महिला ने लेबर रूम में दिया बच्चे को जन्म, चादर से व्यक्ति ने ढका बदन

Punjab District Hospital

Punjab News: सरकारें बेसक बड़े-बड़े वादे करती हों, भोली गरीब जनता को लुभावने झूठे वादे कर सत्ता काबिज कर लेती हों, लेकिन विपत्ति में सब ढ़कोसला दिखाई पड़ता है। अरविंद केजरीवाल अपने को आम आदमी होने का दावा करते हैं, पंजाब में उन्हीं की सत्ता है और वहीं आम आदमी के साथ ऐसा अत्याचार कि वीड़ियो देखकर आपकी रूह कांप जायेंगी। जब एक गर्भवती गरीब महिला सिविल अस्पताल में गर्भवती महिला डेलीवरी के लिए भर्ती होने जाती है, तो स्टाफ द्वारा धिक्कार दिया जाता है।

जब उस गरीब महिला की कोई नहीं सुनता तो उसी अस्पताल के लेबर रूम में जमीन पर पड़ी बेहोस अवस्था में महिला बच्चे को इस कदर जन्म देती है, कि उसके बदन को एक व्यक्ति उसी की साड़ी से ढ़कता है और बच्चा जमीन पर ही पड़ा रहता है। राज्य की आम आदमी सरकार औऱ उसके नुमांइदों की आंखें बंद हो जाती हैं, उन्हें ये बेसहारा महिला का दर्द दिखाई नहीं पड़ता है। सिस्टम की आंखों में मोतियाबिंद हो जाता है। लेकिन कहते हैं, न “जाको राखे साईंया, मार सके न कोय” और यही हुआ जच्चा-बच्चा दोनों सुरक्षित हैं।

क्या है पूरा मामला?

मामला पंजाब के आधुनिक शहर पठानकोट के सिविल अस्पताल का है, जहाँ एक गर्भवती महिला डेलीवरी के लिए भर्ती होने आती है, तो स्टाफ द्वारा उसे भर्ती करने के लिए मना कर दिया जाता है। गरीबी की मारी वो महिला लेबर रूम में कुर्सियों पर बैठ जाती है और दर्द तेज होता है, बेहोसी की हालत में जमीन पर गिर पड़ती है। बच्चा पैदा हो जाता है, बेहोस पड़ी महिला व बच्चे को एक व्यक्ति उसी की साड़ी से ढ़कता हुआ नजर आता है।

Punjab News: पति जंगबहादुर निवासी पिपलांवाला मोहल्ला ने बताया कि उसने स्टाफ से कहा भी था कि वह पत्नी को अमृतसर लेकर जाने में सक्षम नहीं है। इसलिए पत्नी का इलाज सिविल अस्पताल में ही किया जाए। पति ने आरोप लगाया, कि स्टाफ द्वारा उनके साथ दुर्व्यवहार किया गया व पुलिस को शिकायत देने की धमकी भी दी गई। जंगबहादुर ने बताया कि स्टाफ की ओर से महिला को भर्ती करने से मना करने के बाद उसकी पत्नी ने लेबर रूम के बाहर ही रात के करीब दो बजे बच्चे को जन्म दिया। महिला के पति ने बताया कि अब जच्चा-बच्चा दोनों ठीक है ।

ये भी पढ़ें..

Varanasi News: बीएचयू परीक्षा में पूछे गये सवाल पर मचा बवाल, औरंगजेब ने मंदिर तोड़कर बनाई मस्जिद?

Supreme Court: विवाहिता की तरह अविवाहिता को भी गर्भपात करने का अधिकार, MTP एक्ट में किया गया संसोधन

By Rohit Attri

मानवता की आवाज़ बिना किसी के मोहताज हुए, अपने शब्दों में बेबाक लिखता हूँ.. ✍️