Karwa Chauth: व्रत को लेकर कंफ्यूजन में महिलाएं, 13 या 14 अक्टूबर को..

Karwa Chauth: व्रत को लेकर कंफ्यूजन में महिलाएं, 13 या 14 अक्टूबर को मनायें करवा चौथ?

karwa chauth

Karwa Chauth: करवा चौथ का व्रत उत्तर भारत में काफी प्रचलित है, यहां सबसे ज्यादा मनाया जाता है। महिलाएं अपने दांपत्य जीवन को सुखमय रखने के लिए इस व्रत को रखती हैं। सुहागिन महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र के लिए ये व्रत रखती हैं, तो वहीं कन्याऐं अच्छे वर की प्राप्ति के लिए ये व्रत रखती हैं। करवा चौथ के व्रत में महिलाएं दिन-भर निर्जला व्रत रखती हैं और रात में चंद्रोदय के बाद पूजा कर अपना व्रत पूरा करती हैं। इस बार व्रत को लेकर महिलाएं काफी दुविधा में हैं, कि व्रत को 13 को मनायें या 14 अक्टूबर को मनायें।

देखिए शुभ योग..

करवा चौथ का व्रत हिंदू पंचांग के अनुसार, ये व्रत कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को मनाया जाता है। करवा चौथ में सरगी का विशेष महत्व माना जाता है। दरअसल, सरगी का प्रचलन सबसे ज्यादा पंजाब में है। सरगी खाने की वो जरूरी वस्तुएं हैं, जो करवा चौथ पर सूर्योदय से पहले सास अपनी बहूओं को भोजन के रूप में खाने के लिए देती हैं। सुहागिनें सरगी को प्रसाद के रूप में ग्रहण कर करवा चौथ का व्रत शुरू करती हैं।

Karwa Chauth: इस बार करवा चौथ का व्रत 13 अक्टूबर, गुरुवार को रात 01 बजकर 59 मिनट पर शुरू होगा और 14 अक्टूबर को रात 03 बजकर 08 मिनट पर समाप्त होगा। चूंकि उदयातिथि 13 अक्टूबर में ही पड़ रही है, इसलिए करवा चौथ का व्रत 13 अक्टूबर को ही रखा जाना चाहिए।

करवा चौथ पूजा मुहूर्त- शाम 06 बजकर 17 मिनट से शाम 07 बजकर 31 मिनट तक

अवधि- 01 घण्टा 13 मिनट

करवा चौथ व्रत समय- सुबह 06 बजकर 32 मिनट से रात 08 बजकर 48 मिनट तक

करवा चौथ के दिन चन्द्रोदय- 08:48 शाम

चतुर्थी तिथि प्रारम्भ- अक्टूबर 13, 2022 को सुबह 01 बजकर 59 मिनट से शुरू

चतुर्थी तिथि समाप्त- अक्टूबर 14, 2022 को सुबह 03 बजकर 08 मिनट पर खत्म।

ये भी पढ़ें..

Up News: योगी के आदेश से कुम्हारों के घरों में उमंग का उजाला, विश्व रिकॉर्ड के साथ अयोध्या में जलेंगे 16 लाख दीये

PFI: मथुरा-अयोध्या को बम से उड़ा दूंगा और कर दूंगा सर तन से जुदा, भाजपा विधायक को धमकी भरा पत्र

 

By Rohit Attri

मानवता की आवाज़ बिना किसी के मोहताज हुए, अपने शब्दों में बेबाक लिखता हूँ.. ✍️

Leave a Reply

Your email address will not be published.