Up news: वो दौर और था ये दौर और है, कभी दिनदिहाड़े अपराधिक घटनाओं..

Up news: वो दौर और था ये दौर और है, कभी दिनदिहाड़े अपराधिक घटनाओं को दिया जाता था अंजाम, अब ठेले वाले को भी मिल जाती है सुरक्षा

Rameshwer dayal with protection

Up news: ठेले को घेर बैठे योगी के नुमाइंदों को देख ग्राहकों को भी हैरान होने लगी। पुलिस के दो लोगों को देख ठेले वाले के भी उड़ गये थे होश। आखिर ये सब हो क्या रहा था पता किसी को नहीं। एक दौर यूपी में वो भी था दिनदिहाड़े हत्यायें होना मामूली सी बात थी, लेकिन योगी हाथ ही पूरा सिस्टम ही बदल गया। भेदभाव भी खत्म हो गया और समाज के अंतिम व्यक्ति को भी यूपी में वही सुरक्षा मिलने लगी जो कभी यूपी धर्नाड़ लोगों को मिलती थी।

सुन लीजिए पूरी खबर.. सड़क किनारे खड़े ठेले के पीछे पड़ीं दो कुर्सियों पर बैठे पुलिस के दो सिपाहियों को देख हर कोई हैरान है, चौकन्ना है। आखिर ठेले पर बेच रहे कपड़े वाले के पीछे बैठे दो सिपाहियों का राज क्या है?

जब लोग कपड़े खरीदने ठेले पर जाते हैं, तो एक दम से पुलिस वालों को देख भौचक्के रह जाते हैं। लेकिन राज को सभी जानना चाहते हैं। ठेले पर आने वाले ग्राहक ही नहीं खुद ठेले वाला भी हैरान हो गया था।

ठेले वाले की सुरक्षा में पुलिसकर्मी तैनात
ठेले वाले की सुरक्षा में पुलिसकर्मी तैनात

Up news: जब दो पुलिस वालों को ठेले वाले ने ग्राहक समझ लिया, जब ठेले वाले को असलियत पता लगी तो सम्मान में सिर झुक गया। पुलिस को देख ठेले वाला डरा नहीं क्योंकि वह कोई अपराधी नहीं था। अगर अपराधी होता तो पुलिस वालों को ग्राहक नहीं समझता साहब! और भागने की फिराक में रहता। पुलिस के दो नुमाइंदों ने ही बताया कि आपकी जान को खतरा हो सकता इसीलिए हम आपकी सुरक्षा में आये हैं।

मामला यूपी के अलीगंज का है, जब एक ठेले वाले की जान को खतरा होता है, तो फिर एक आदेश होता है और योगी की पुलिस दौड़ी चली आती है ठेले वाले की सुरक्षा में तैनात होने के लिए। जान को खतरा यूंही नहीं हो गया, पुलिस ऐसे ही दौड़ी नहीं चली आई। हम इसी के बारे आखिर हुआ क्या?

Up news: मामला सपा नेता व अलीगंज के पूर्व विधायक रामेश्वर सिंह यादव और उनके भाई जुगेंद्र सिंह यादव से जुड़ा है। ठेले वाले का नाम रामेश्वर दयाल है। रामेश्वर दयाल ने सपा नेताओं के खिलाफ ठेले वाले ने मुकदमा दर्ज कराया है।

सपा नेताओं पर जातिसूचक गालियां देने और बंधक बनाकर जमीन का बैनामा कराने का आरोप है। इस मुकदमे को खारिज करने की याचिका आरोपी सपा नेताओं की ओर से हाईकोर्ट में डाली गई थी।

सुनवाई के दौरान न्यायाधीश ने पीड़ित को देखकर हैरानी जताई। कहा कि पीड़ित बिना सुरक्षा यहां तक कैसे आ गया। पुलिस ने अभी तक उसे सुरक्षा मुहैया क्यों नहीं कराई ? न्यायाधीश ने पीड़ित को सुरक्षा मुहैया कराने के आदेश जारी दिए और पुलिस पीड़ित ठेले वाले की सुरक्षा में जाकर खड़ी हो गई।

याचिका में सपा नेताओं ने भी बोल दिया बंधक बनाकर जमीन कब्जाने, जातिसूचक गालियां देने का जो मुकदमा हमारे खिलाफ में दर्ज कराया गया है, वह झूठा है। उन्होंने मुकदमे को खारिज करने की मांग की है।

Up news: आपको ये भी बता दें कि बेसक रामेश्वर दयाल की आर्थिक स्थिति ठीक ना हो, लेकिन उसे योगी पर भरोसा है कुछ भी गलत नहीं होगा। रामेश्वर की दुकान भी नहीं है, वह अपने परिवार का भरण भोषण करने के लिए ठेले पर कपड़े बेचते हैं।

ये भी पढ़ें..

Lalit Modi: ये बचपन का नहीं 56 का प्यार है, लगा- लगा- लगा रे… लगा प्रेमरोग..

Hamid Ansari: संवैधानिक पद पर रहते हुए पाकिस्तानी पत्रकार का सहयोग जरूरी या मजबूरी?

By Susheel Chaudhary

मेरे शब्द ही मेरा हथियार है, मुझे मेरे वतन से बेहद प्यार है, अपनी ज़िद पर आ जाऊं तो, देश की तरफ बढ़ते नापाक कदम तो क्या, आंधियों का रुख भी मोड़ सकता हूं ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.