Boycott Hindutva: बॉयकाट ट्रेंड की शिकार हुई हिंदुत्व, हिंदुओं ने जताई आपत्ति

Boycott Hindutva: बॉयकाट ट्रेंड की शिकार हुई हिंदुत्व, हिंदुओं ने जताई आपत्ति

Boycott Hindutva:

Boycott Hindutva: करण राजदान कि रिलीज होने वाली फिल्म आने से पहले काफी सुर्खियों में थी और लोग बेसब्री से इसका इंतजार भी कर रहे थे। लेकिन फिल्म आते ही ऐसा क्या हुआ कि अब फिल्म को देखने वाले हिंदू सड़कों पर उतर आए हैं।  इस फिल्म के विरोध में इस फिल्म को देखने के बाद अब जिस तरह से इसे बॉयकाट करने के लिए लगातार हिंदू लोगों को जागरूक कर रहें हैं उससे तो यही लगता है कि अब इस फिल्म की भी लंका लगने वाली है
दरअसल जो हिंदू इसका विरोध कर रहें हैं उनका कहना ये है कि इस फिल्म में हिंदुत्व के नाम पर हिंदुओं को ठगा गया है हिंदुओं को बरगलाया गया है

Boycott Hindutva: इस फिल्म की स्टोरी में हिंदुओं को ही मानो जलील किया गया है इसमें हिंदू मुस्लिमों का भाई चारा दिखाया गया है जो कि लोगों को बिल्कुल भी पसंद आ रहा लोगों का कहना है भाई चारे के नाम पर हर बार हिंदुओं पर वॉर किया गया है और ये जो भाई चारा दिखाने कि कोशिश की गई ये कौनसा भाई चारा है वहीं जो कि हिंदुओं को लगातार चारा बनाया जा रहा है
गौरतब है जो समीर हिंदुओं को निशाना बनाता है वहीं समीर अब भाई चारे के नाम पर हिंदुओं के मंदिर को टूटने से बचा रहा है हिंदुओं का रक्षक बन रहा है और अब इस कुछ मिनट में समीर द्वारा निभाए गए किरदार ने ही पूरी मूवी का मानो सत्यानाश कर देगा लोगों का कहना ये भी है कि अगर इस फर्जी भाई चारे का सीन या तो हटाया जाए या फिर समीर की घर वापसी दिखाई जाए और ये जो भाई चारा दिखाया गया है वही भारत को नुक्सान पहुंचा रहा है

Boycott Hindutva: हिंदुत्व के नाम पर ये जो आजकल हिंदी सिनेमा का एजेंडा चल रहा है और आने वाली हर मूवी सजिस तरह से बॉयकाट की भेट चढ़ रहीं है उससे तो यही लगता है कि अब बॉलिबुड के पाप का घड़ा भर चुका है
अब बात करतें हैं इस फिल्म में दिखाए गए भाई चारे की कौनसा भाई चारा वो जो भारत पाकिस्तान के बटवारे के समय हुआ जिसमें 72 घंटे के भीतल 6 हजार लोगों ने अपनी जान गवाई या फिर वो भाई चारा जो गोधरा कांड के समय हिंदुओं को चलती ट्रेन में जिंदा जला दिया गया
ये है भाई चारा कि हिंदू भाई भाई कहता रहे और एक दिन फिर ऐसा आता है कि हिंदू जिहादियों की भेट चढ़ जाते हैं इस भाईन चारे के इतिहास में ऐसी कई घटनाऐं हैं जिसके सोच कर ही हिदुओं का खून खौल जाता है और ये बॉलिवुड हर बार इसी तरह कि मूवी बनाकर हिंदुओं को उकसाने का काम कर रहा है

Boycott Hindutva: क्या इसी भाई चारे को जिहादी समीर द्वारा दिखाए जाने की बात कर रहें हैं 1947 से लेकर अबतक हिंदू न इन जिहादियों का भाई हुआ और न ही होगा क्योकि इन्हें चारा बनाने की आदत जो हो गई है
अब बात करते हैं उस भाई चारे कि जो हिंदुओं के साथ कश्मीर में निभाई गई तो अगर समीर और अब्दुल इतने ही अच्छे थे तो 1990 के दशक में हिंदुओं का पलायन कशमीर से क्यों हुआ ये ऐसा घाव है हिंदुओं के लिए जो पूरी जिंदगी भर नहीं सकता उस समय भी भाई चारे के नाम पर हिंदुओं पर कहर बरसाया गया मस्दिदों से घोषना की गई कि कश्मीरी पंडित काफिर थे और पुरुषों को कश्मीर छोड़ना होगा अगर नहीं चोड़ा तो इस्लाम कबूल करना होगा और तो और जिन लोंगो ने डर कर मजबूरी में छोड़ने को कहा तो इन जिहादियों ने उन्हें अपनी पत्नियों को वहीं छोड़ने को कह दिया ये वही भाई चारा था जिसकी भेट अभी तक हिंदू चढ़ रहें हैं

इसके अलावा दंगे का नाम अब दंगा नहीं भाई चारा होना चाहिए तो भागलपुर भाईचारा कोई नहीं भूला जिसमें 1000 से ज्यादा लोग मारे गए दिल्ला भाईचारा जिसमें 1000 लोगों ने अपनी जान गवाई मुंबई भाईचारा जिसमें 900 लोग मारे गए गुजरात भाईचारा मुज्जफ्फर नगर भाई चारा

यही भाईचारा दिखाने की कोशिश है फिल्मों के जरिए लगातार हिंदुओं के देवी देवताओं का हिंदुओं का ही तो मजाक बनाया जा रहा है इसके अलावा शायद अब इन लोगों के पास कुछ भी दिखाने को बचा ही नही हैं लेकिन अब हिंदुओं ने भी तय कर लिया है और इस बात की भी गाठ बांध ली हैं कि इन जिहादियों की मंसा पूरी नहीं होने देंगे

आपको बता कि बॉलिबुड के साथ साथ अब साउथ सिनेमा की भी हालात पस्त ही नजर आ रही है और अब बॉलिवुड जो एजेंडा चला रहा है वो कामयाब भी नहीं होगा आने वाली हर फिल्म का लगातार बॉयकाट ऐसा हो रहा है कि खुद फिल्म बनाने वाले भी हैरान है
लाल सिंह चढ़ा से लेकर ब्रम्हास्त्र और आदिपुरुष जैसी फिल्मों का भी बेड़ागर्क हो गया है

आदिपुरुष रिलीज क्या ही कि उसकी भी लंका लग गई क्योंकि अब हिंदुओं के साथ साथ हिंदुओं के देवी देवताओं को भी गलत तरीके से पेश करना उनका मजाक बनाना बॉलिवुड की आदत ही हो गई है

ये भी पढ़ें

India vs South Africa: दीपक चाहर भी हुए घायल, वासिंगटन सुंदर को टीम इंडिया में किया गया शामिल
Karwa Chauth: व्रत को लेकर कंफ्यूजन में महिलाएं, 13 या 14 अक्टूबर को मनायें करवा चौथ?

 

 

 

By Atul Sharma

बेबाक लिखती है मेरी कलम, देशद्रोहियों की लेती है अच्छे से खबर, मेरी कलम ही मेरी पहचान है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.