Maharashtra Politics: शरद पवार से एनसीपी छिनने पर झलका दर्द, बोले– “हमारा चुनाव चिन्ह ही नहीं हमारी पार्टी…”

Maharashtra Politics:  NCP पर कुछ दिन पहले निर्वाचन आयोग ने बड़ा निर्णय लेते हुए पार्टी का चिह्न एवं नाम अजीत पवार के पास थमा दी। उधर, शरद पवार केवल देखते रह गए। आयोग के निर्णय ने शरद पवार को बैचेन कर दिया है। अब उनका कहना है कि फैसला आश्चर्यजनक था। क्योंकि आयोग ने उन लोगों के हाथों से पार्टी को छीन लिया, जिन्होंने इसे बनाया तथा उसे किसी और को थमा दिया।

Maharashtra Politics: उन्होंने कहा कि लोगों के लिए कार्यक्रम और विचारधारा अहम है जबकि किसी चुनाव चिह्न की उपयोगिता एक सीमित समय के लिए होती है। उन्होंने कहा कि मुझे भरोसा है कि लोग निर्वाचन आयोग के फैसले का समर्थन नहीं करेंगे। इसके खिलाफ हमने उच्चतम न्यायालय का दरवाजा खटखटाया है।”

शरद पवार ने निर्वाचन आयोग के लिए क्या कहा?

Maharashtra Politics: शरद पवार ने कहा कि निर्वाचन आयोग ने न केवल हमारा चुनाव चिह्न छीना, बल्कि हमारी पार्टी भी दूसरों को दे दी। पवार ने राकांपा की स्थापना 1999 में की थी। उन्होंने कहा कि निर्वाचन आयोग ने उन लोगों के हाथों से पार्टी छीन ली जिन्होंने इसे बनाया, आगे बढ़ाया। ऐसा पहले कभी नहीं हुआ।

अजित गुट को मिला पार्टी और चुनाव चिन्ह

Maharashtra Politics: चुनाव आयोग ने एनसीपी का नाम और उसका चुनाव चिन्ह घड़ी आधिकारिक रूप से अजित पवार गुट को दे दी है। इस मामले में 10 बार सुनवाई की गई जिसका बाद आयोग ने ये फैसला सुनाया। आयोग के फैसले पर अजित गुट ने जहां खुशी जताई थी वहीं शरद गुट में मायूसी छाई रही। आयोग के फैसले के बाद शरद पवार ने सुप्रीम कोर्ट में जाने का फैसला किया था।

पिछले साल 2 जुलाई को अजित पवार एनसीपी के कई विधायकों के साथ महाराष्ट्र की शिंदे सरकार में शामिल हो गए थे। इसके बाद उन्हें महाराष्ट्र का उप मुख्यमंत्री बना दिया गया था। इसके बाद से चाचा भतीजे के बीच पार्टी को लेकर जंग शुरू हो गई। अजित के इस कदम से शरद पवार को बड़ा झटका लगा था। कुछ समय बाद अजित ने शरद पवार को NCP के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद से हटाने का ऐलान कर खुद को पार्टी का नया राष्ट्रीय अध्यक्ष घोषित कर दिया था।

Written By: Vineet Attri 

ये भी पढ़ें..

Ayodha: दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल के साथ पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान आज अयोध्या के दौरे पर, रामलला के करेंगे दर्शन
Bihar Political Crisis: नीतीश सरकार ने विश्वास मत किया हासिल, पक्ष में पड़ें 129 वोट

By Nyasha Jain