Mahua Moitra: TMC सांसद की लोकसभा सदस्यता रद्द, सदन में विपक्ष ने काटा हंगामा

Mahua Moitra: पैसे लेकर सवाल पूछने के मामले में आरोपी TMC सांसद महुआ मोइत्रा को लोकसभा से निष्‍कासित कर दिया गया है। महुआ मोइत्रा को लोकसभा से निष्‍कासित करने का प्रस्‍ताव ध्‍वनिमत से पारित हुआ था। एथिक्स कमेटी की रिपोर्ट आज दोपहर 12 बजे के लोकसभा में पेश की गई थी। उस पर बीजेपी सांसद और आचार समिति के अध्यक्ष विनोद सोनकर ने रिपोर्ट पेश की है।

Mahua Moitra: इस बीच विपक्ष ने जमकर हंगामा और नारेबाजी की है। जिसके चलते संसद की कार्यवाही स्थगित कर दी गई। 2 बजे के बाद फिर से कार्यवाही शुरू की गई। रिपोर्ट पेश होने के बाद सरकार की ओर से महुआ मोइत्रा की सदस्यता ख़त्म करने का प्रस्ताव दिया गया वी है।

सांसद निशिकांत दुबे ने की थी महुआ की शिकायत

Mahua Moitra: बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे ने वकील जय अनंत देहाद्राई के जरिए मोइत्रा के खिलाफ लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला को शिकायत भेजी थी। जिसमें उन पर अदाणी समूह और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को निशाना बनाने के लिए कारोबारी दर्शन हीरानंदानी के कहने पर सदन में सवाल पूछने के बदले रिश्वत लेने का आरोप लगाया गया था।

महुआ मोइत्रा बोली- अब होगा महाभारत

Mahua Moitra: जब महुआ मोइत्रा लोकसभा में पहुंचीं तो उन्होंने खुद को “दुर्गा” बताया और महाभारत की तरह “रण” की चेतावनी दी है। आपको बता दें कि महुआ मोइत्रा ने कहा है कि, ”मां दुर्गा आ गई हैं, अब देखेंगे… इसके बाद उन्होंने एक बंगाल की कविता पढ़ी, जिसका मतलब है जब कोई आपको डराता है तो उसके सामने सिर उठाकर लड़ाई लड़िए।

राष्ट्रकवि दिनकर की मशहूर कविता की पंक्तियों का जिक्र करते हुए महुआ ने कहा, “जब नाश मनुष्य पर छा जाता है, तो विवेक पहले मर जाता है। उन्होंने ‘वस्त्रहरण’ शुरू किया अब आप ‘महाभारत का रण’ देखेंगे।”

बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष ने किया पलटवार

Mahua Moitra: महुआ मोइत्रा के बयान पर बीजेपी ने पलटवार किया है। बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष सुकांत मजूमदार ने कहा है कि, चीरहरण द्रौपदी का हुआ था, शूर्पणखा का नहीं। इस मामले में कोई महाभारत नहीं होगा। महाभारत के श्री कृष्ण और अर्जुन तो इधर हैं।

आपको बता दे कि पीएम मोदी और अमित शाह की तुलना श्रीकृष्ण और अर्जुन से की है। महाभारत धर्म की रक्षा के लिए लिए होता हैं अधर्म के लिए नहीं महुआ ने अधर्म किया है। महाभारत में भी अधर्म की हार हुई थी और धर्म की जीत हुई थी। इस बार भी यहीं होगा धर्म की जीत होगी और अधर्म की हार।

ऐसे आरोप में पहले भी निलंबित हुए हैं सांसद

Mahua Moitra: आपको बता दें कि, इससे पहले भी वर्ष 2005 में पैसे लेकर प्रश्न पूछने के आरोप में 11 सांसदों की सदस्यता खत्म हो चुकी है। संसद का शीतकालीन सत्र सोमवार से शुरू हुआ है और 22 दिसंबर तक चलेगा। इस बीच महुआ मोइत्रा पर कार्रवाई को लेकर फैसला होगा।

TMC ने मांग की है कि महुआ मोइत्रा को सदन में बोलने का मौका मिलना चाहिए। TMC सांसद कल्याण बनर्जी ने कहा है कि फेयर ट्रायल होना चाहिए। निष्कासन ने पहले महुआ मोइत्रा को बोलने का मौका देना चाहिए। उन्हें सुने बिना निष्पक्ष जांच कैसे हो सकती है। उन्होंने कहा, ये संवैधानिक उल्लंघन हैं। हीरानंदानी से पूछताछ नहीं की गई है।

Written By: Vineet Attri 

ये भी पढ़ें..

जूनियर महमूद: नहीं रहे ये मशहूर एक्टर और कॉमेडियन, 67 की उम्र में कह दिया दुनिया को अलविदा
Gautam Gambhir: श्रीसंत ने गौतम गंभीर पर लगाया आरोप, बोले- “वो मुझे फिक्सर-फिक्सर कह रहे थे”

By Nyasha Jain