Agra: झगड़े के दौरान परामर्श केन्द्र पहुंचे दंपत्ति, पति बोला- “तीन दिन पत्नी, तीन दिन प्रेमिका.

Agra: झगड़े के दौरान परामर्श केन्द्र पहुंचे दंपत्ति, पति बोला- “तीन दिन पत्नी, तीन दिन प्रेमिका और एक दिन आजाद रहूँगा”

प्यार का प्रतीक

Agra: आज एक ऐसी अजीबोग़रीब घटना से रुबरु करायेंगे, जिसे पढ़ आप भी सन्न रह जोओगे। घटना उत्तर प्रदेश के। आगरा की है, जहाँ एक आदमी की शादी को हुए 8 वर्ष हो, लेकिन वो अपने बीबीबच्चों को छोड़कर लिव इन में अपनी प्रेमिका के साथ रहता है। जब यह मामला परिवार परामर्श केंद् आगरा पहुँचा तो सभी सुन सन्न रहे गये, जहाँ पति अपनी पत्नी को भी नहीं छोड़ना चाहता न ही अपनी गर्लफ्रेंड को। काउंसलर के ज्यादा समझाने के बाद भी वह नहीं माना। बहुत कहने पर उसने अपने सप्ताह के सात दिनों का बंटवारा कर दिया। वह बोला, तीन दिन पत्नी और तीन दिन प्रेमिका के साथ बिताएंगे और एक दिन आजाद रहूंगा।

झगड़ा कर के मायके चली गयी थी पत्नी

प्रेमिका का कहना है कि वह ढाई साल से लिव इन रिलेशनशिप में रहने के बाद अपनाने से इंकार कर दिया। उसका एक बच्चा भी है। पति ने बताया कि पत्नी झगड़कर मायके चली गई थी, तब वह प्रेमिका के संपर्क में आयी। सब ठीक चल रहा था, विवाद कुछ समय पहले ही शुरू हुआ जब पत्नी ने प्रेमिका से संबंध खत्म करने की जिद की।

हफ्ते में एक बार बाहर खाना खिलाऊंगा

पत्नी का कहना है कि पति अपने घरवालों की ही बात मानता है, न खर्चे के लिए पैसे देता है और न ही कभी बाहर खाना खिलाने ले जाता है। उसके साथ आए दिन मारपीट करता है। बच्चों और उसका ठीक से ध्यान नहीं रखता। इससे वह मायके में रहकर बच्चों का पालन कर रही है। मामला जब परिवार परामर्श केंद्र पहुंचा तो तीन काउंसिलिंग के बाद पति ने कहा पत्नी की बात सुनेंगे और हफ्ते में एक बार बाहर खाना खिलाने बाहर ले जाऊंगा, इस पर पत्नी राजी हो गयी और दोनों साथ रहने को राजी हो गए।

The Biggest Thing Men Get Wrong About Love | Psychology Today

Agra: आपको बता दें कि यह मामला आगरा के रकाबगंज थाना क्षेत्र का है। पति का कहना है कि वह पत्नी, प्रेमिका और मां सबके साथ समय बिताएगा। प्रेमिका ने यह प्रस्ताव स्वीकार कर लिया, जबकि पत्नी ने सोचने के लिए सात दिन का समय मांगा है। शादी 10 साल पहले हुई थी। दोनों के तीन बच्चे भी हैं, पति प्राइवेट नौकरी करता है।

ये भी पढ़ें..

रहस्यमयी कहानी 8: छोटे कद के बड़े हौसले वाले बहादुर की मौत का पढ़िए रहस्यमयी क़िस्सा

Gyanvapi Maszid Survey Update: सुप्रीम कोर्ट का आदेश- बजू पर रहेगी रोक, नमाज रहेगी जारी

By Rohit Attri

मानवता की आवाज़ बिना किसी के मोहताज हुए, अपने शब्दों में बेबाक लिखता हूँ.. ✍️

Leave a Reply

Your email address will not be published.