Bihar: डीएम को कुर्ता-पायजामा पहनना नहीं आया रास, हेडमास्टर की तनख्वाह रोक..

Bihar: डीएम को कुर्ता-पायजामा पहनना नहीं आया रास, हेडमास्टर की तनख्वाह रोकने व बर्खास्त करने के दिये आदेश

Headmaster and Dm

Bihar: जिला लखीसराय के एक प्राथमिक विद्यालय में निरक्षण करने पहुंचे जिलाधिकारी को हेडमास्टर कुर्ता-पायजामा में बच्चों को पढ़ाते मिले। जिस पर जिलाधिकारी ने फटकार लगाते हुए तनख्वाह काटने व नौकरी से बर्खास्त करने के आदेश दे दिये। हेडमास्टर में लताड़ लगाते जिलाधिकारी की वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रही है।

लोग डीएम के खिलाफ कार्रवाई की कर रहे मांग

सोशल मीडिया पर वायरल इस वीडियो पर लोग तरह-तरह की प्रतिक्रियायें दे रहे हैं। अधिकतर लोग डीएम के इस कदम को गलत बताकर उनके खिलाफ कार्रवाई की मांग कर रहे हैं। लखीसराय के डीएम संजय कुमार सिंह जिले के एक प्राथमिक स्कूल का निरीक्षण करने पहुंचे। स्कूल के हेडमास्टर कुर्ता पायजामा पहने हुए थे, तो डीएम को यह रास नहीं आया। जिलाधिकारी ने हेडमास्टर को तुरंत खरी-खोटी सुना दी। बच्चों एवं अन्य शिक्षकों के सामने हेडमास्टर को लताड़ने के बाद डीएम ने उनकी सैलरी काटने और बर्खास्त करने का आदेश भी दे दिया।

Bihar: वहां मौजूद एक मीडियाकर्मी ने इस पूरे वाकये का वीडियो रिकॉर्ड कर दिया। अब यह सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। ट्विटर पर अधिकतर यूजर डीएम के इस व्यवहार को गलत बता रहे हैं।

ट्विटर पर यूजर्स की प्रतिक्रिया

यूजर “Educators of Bihar” ने वीडियो के साथ ट्वीट करते हुए लिखा है, क्या भारत में शिक्षकों के कुर्ता-पायजामा पहनने पर रोक है? क्या कुर्ता-पायजामा पहनने के जुर्म में शो कॉज और वेतन बंद करना उचित है?

तो वहीं पत्रकार विजय कापड़ी ने ट्वीट कर कहा कि भारत में कुर्ता पायजामा पहनना कब से बैन हो गया, कुर्सी का इतना रौब गलत है। हेडमास्टर के साथ सरेआम बदतमीजी करने वाले डीएम संजय कुमार सिंह के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए।

प्रियंका भारती का कहना है कि शिक्षक अगर न पढ़ाए तो दिक्कत हो सकती है, लेकिन कुर्ता-पायजामा से क्या दिक्कत है। बिहार में अफसरशाही का नंगा नाच हो रहा है।

ये भी पढ़ें..

मध्य प्रदेश: मगरमच्छ ने बच्चे को निगला तो ग्रामीणों ने बचाने के लिए मुँह में दे दिया बांस

Madhya Pradesh: एंबुलेंस के लिए पूरे दिन भटकता रहा गरीब पिता, मासूम के शव को गोदी में लेकर कई घंटों तक बैठा रहा 8 वर्षीय भाई

 

By Rohit Attri

मानवता की आवाज़ बिना किसी के मोहताज हुए, अपने शब्दों में बेबाक लिखता हूँ.. ✍️

Leave a Reply

Your email address will not be published.