दिल्ली जहांगीरपुरी हिंसा मामला: बुलडोजर पर लगा ब्रेक, एससी का आदेश यथास्थिति...

दिल्ली जहांगीरपुरी हिंसा मामला: बुलडोजर पर लगा ब्रेक, एससी का आदेश यथास्थिति बनाए रखे

दिल्ली हिंसा मामला- जहांगीर पूरी

दिल्ली जहांगीरपुरी हिंसा मामला: एससी का आदेश जहांगीरपुरी में यथास्थिति बनाई रखी जाए अब बुलाडोजर पर ब्रेक लगा दिया है। नॅार्थ एमसीडी के मेयर राजा इकवाल ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश का पालन किया जाएगा। आप को बता दे कि 20 अप्रैल तड़के सुबह से ही जहांगीरपुरी में सड़क पर बने अवैध अतिक्रमण को तोड़ने के लिए नॅार्थ एमसीडी ने बड़ी कार्यवाही को अंजाम दिया। कुछ अतिक्रमण को हटा भी दिया गया और अभी भी अतिक्रमण की कार्यवाही चल रही है और ये कार्यवाही तब तक जारी रहेगी जब तक एमसीडी के अधिकारियों के पास एससी का लिखित आदेश नहीं पहुंच जाता है। एससी का आदेश मिलते ही नोर्थ एमसीडी के बुलडोजर को रोक दिया जाएगा।

दिल्ली जहांगीरपुरी हिंसा मामला: नार्थ एमसाडी के मेयर राजा इकवाल सिंह ने कहा कि एमसीडी केवल अवैध निर्माण को तोड़ा जा रहा है। वे किसी भी वैध निर्माण कोे नहीं तोड़ रहे है। उनका ये भी कहना है कि बुलडोजर की कार्यवाही किसी के धर्म को देखकर नहीं की जा रही है।

नार्थ एमसीडी के मेयर राजा इकवाल सिंह ने कहा कि जहांगीरपुरी में अतिक्रमण विरोधी अभियान को लेकर सुप्रीम कोर्ट के आदेश को माना जाएगा, अगर बुलडोज़र हटाने का आदेश होगा तो उसे तुरंत हटाया जाएगा।

वहीं विशेष पुलिस आयुक्त(कानून-व्यवस्था) दीपेंद्र पाठक ने कहा कि सिविक एजेंसी को प्रोटेक्शन देना हमारा काम है वो हम कर रहे हैं। हम सभी काम कानूनी करते हैं और इस मामले में सिविक एजेंसी के प्रयास हैं तो सिविक एजेंसी जैसा कहेगी हम वैसा करेंगे। मौके पर सुरक्षा व्यवस्था पुख्ता है।

उत्तर पश्चिम ज़िला सिविल लाइंस के  जोन चेयरमैन नवीन त्यागी का कहना है कि दिल्ली MCD ने पहले भी अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई की थी लेकिन उन्होंने फिर से अतिक्रमण कर लिया। इस बार हम बड़े स्तर पर अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई कर रहे हैं।

जहांगीरपुरी हिंसा: संयोग या प्रयोग? गिरफ्तार आरोपियों के चेहरे से हुआ खुलासा
जहांगीरपुरी में हिंदू लड़ककियों का सड़क पर निकलना मुश्किल, चश्मदीदों ने दर्द किया बयां
By Atul Sharma

बेबाक लिखती है मेरी कलम, देशद्रोहियों की लेती है अच्छे से खबर, मेरी कलम ही मेरी पहचान है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.