Fifa World Cup: कतर का शरिया कानून, सिंगल्स को सेक्स करते पाये जाने पर 7 साल की जेल

Fifa World Cup 2022

Fifa World Cup: नवंबर में इस्लामिक देश कतर में फीफा वर्ल्ड कप होने वाला है। वर्ल्ड कप से पहले शरिया कानून से चलने वाले कतर ने अपनी बंदिसें जाहिर की हैं। जिसमें शराब व सेक्स को लेकर अपने नियमों को साझा किया है। फुटबॉल फैंस सावधान हो जायें और जान लें कि कतर जाने से पहले किन-किन नियमों का पालन करना है। अगर ऐसा नहीं करते हैं, तो क्या परिणाम भुगतने होंगे।

क्या-क्या नहीं कर सकते फुटबॉल प्रशंसक?

कतर में शराब बैन नहीं है, लेकिन पहुंच सीमित है। लाइसेंस प्राप्त रेस्तरां में ही अल्कोहल ले सकेंगे। शराब पीने की कानूनी उम्र 21 साल है। कानून का उल्लंघन करने पर 64 हजार का जुर्माना या 6 महीने जेल हो सकती है। कतर में समलैंगिकता अवैध है। हाल ही में खुलासा हुआ कि फीफा की ऑफिशियल सूची में शामिल 69 होटल में से 3 ने गे कपल की बुकिंग खारिज कर दी थी।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, इस्लामिक देश क़तर में जब तक आप पति-पत्नी की टीम के रूप में नहीं आ रहे हैं, तब तक आपको सेक्स से दूर ही रहना होगा। ऐसे में निश्चित रूप से इस टूर्नामेंट में कोई वन-नाइट स्टैंड नहीं होगा। कोई ऐसी पार्टी नहीं होगी जहाँ सिंगल्स दूसरों से मिल सकें। वर्ल्ड कप के कई महीने पहले ही क़तर ने फुटबॉल फैंस को खुली चेतावनी दे दी है, कि इस साल के यदि विश्व कप में वन-नाइट स्टैंड में पकड़े गए तो आपको 7 साल सलाखों के पीछे काटने पड़ सकते हैं।

क्या ले जा सकेंगे प्रशंसक?

Fifa World Cup: कतर के इंपोर्ट को लेकर नियम सख्त हैं। सामान में अल्कोहल, ड्रग्स, पोर्नोग्राफी, गैर-इस्लामिक धार्मिक पुस्तकें नहीं होनी चाहिए। ई-सिगरेट भी बैन है। सभी फैंस को Ehteraz ट्रैक एंड ट्रेस ऐप डाउनलोड करना होगा। उन्हें 48 घंटे पहले का निगेटिव PCR टेस्ट दिखाना होगा। साथ ही फुली वैक्सीनेटेड होने का सबूत भी देना होगा।

आपको बता दें कि, इस वर्ष नवंबर में फुटबॉल वर्ल्ड कप खेला जाना है, जिसकी मेजबानी कतर कर रहा है। वहीं इस्लामिक देश क़तर ने शरिया कानून को ध्यान में रखते हुए फीफा वर्ल्ड कप के दौरान शराब और सेक्स को लेकर ये बंदिशें लगाई हैं।

ये भी पढ़ें..

Maharashtra: बाला साहेब ठाकरे की शिवसेना, उद्धव ठाकरे के राज में कितनी बदली?

Earthquake: अफगानिस्तान में भूकंप से 950 लोगों की मौत, 600 से अधिक घायल

By Rohit Attri

मानवता की आवाज़ बिना किसी के मोहताज हुए, अपने शब्दों में बेबाक लिखता हूँ.. ✍️