gyanvapi masjid: साध्वी प्राची का ओवैसी पर तीखा हमला, कहा कि मस्जिद बनानी है तो सऊदी अरब जाओ, हमारे 30 हजार मदिंर ससम्मान लौटाओ

sadhvi prachi and owaisi

gyanvapi masjid: इन दिनों देश में ज्ञानवापी मस्जिद प्रकरण चर्चा में है, जिसे लेकर नेताओं के तरह-तरह के बयान आ रहे हैं। जिससे ज्ञानवापी मामला बहुत तेजी से गरमाया हुआ है, इसी बीच एआईएमआईएम चीफ असदुद्दीन औवैसी ने ज्ञानवापी को लेकर बयान दिया था कि देश का मुसलमान अपनी दूसरी मस्जिद नहीं खोयेगा, क्योंकि वह पहले ही बाबरी मस्जिद खो चुका है।

औवैसी के इसी बयान का पलटवार करते हुए हिंदुवादी फायर ब्रांड नेत्री साध्वी प्राची ने तीखा हमला बोलते हुए अपने अंदाज में बोला कि औवैसी अपनी औकात में रहे तुम्हारे पूर्वज चोर लुटेरे थे न, उनके नाम की मस्जिद बनानी है तो सऊदी अरब जाओ हिंदुस्तान के अंदर इन चोर-लुटेरों की मस्जिद नहीं बनेंगी।

बहन, बेगम और बकरी में अंतर न जानने वाले हमें फव्वारे और शिव में अंतर समझा रहे हैं- साध्वी प्राची

gyanvapi masjid: हरिव्दार जाते समय मुरादाबाद के जिला सर्किट हाउस में रुककर साध्वी प्राची ने अपने बयानों में औवैसी को लताड़ते हुए कहा कि मुझे आश्चर्य हो रहा है कि जो बहन, बेगम और बकरी में अंतर न जानने वाले हमें फव्वारे और शिवलिंग में अंतर समझा रहे हैं। आगे ये भी बोला कि ज्ञानवापी तो हमारी लेटेस्ट मांग है और रही बात और मांगों की तो हमारे भगवान श्री कृष्ण की जन्मभूमि भी तो है और ताजमहल तो बाद की बात है।

खुदा से ड़रने वाले खुदाई से क्यों ड़रते हैं- साध्वी प्राची

साध्वी ने आगे बोलते हुए कहा कि जो सिर्फ खुदा से ड़रने की बात करते थे, वो आज खुदाई से क्यों डर रहे हैं?  इसका मतलब चोर की दाढ़ी में तिनका। आगे ऐलान करते हुए साध्वी ने साफ बोल दिया कि काशी में जिधर नंदी बाबा का मुँह है वहीं महादेव हैं उधर ही भव्य मंदिर बनायेंगे। आगे कहा कि हमारे तीस हजार मंदिर हैं ससम्मान लौटा दो इसी में भला है। तुम्हारे बाप दादा उर्दू चाटते-चाटते मर गये तुम्हें मस्जिद और मंदिर में कोई अंतर दिखाई नहीं दे रहा। ज्ञानवापी हमारी थी, हमारी है और हमारी रहेगी।

ये भी पढ़ें..

Gyanvapi Maszid Case Live: सात याचिकाओं में से पहले कौन सी सुनी जाएगी इसका होगा आज फैसला,ज्ञानवापी मस्जिद केस में नहीं आएगा कोई आदेश

Mathura Court: कोर्ट ने शाही ईदगाह हटाने की याचिका की स्वीकार, विवादित ढांचे में लड्डू गोपाल के जलाभिषेक पर भी होगी सुनवाई

 

By Rohit Attri

मानवता की आवाज़ बिना किसी के मोहताज हुए, अपने शब्दों में बेबाक लिखता हूँ.. ✍️