Indian Army : आकाश प्राइम मिसाइल एयर डिफेंस सिस्टम की दो रेजिमेंट मिलने से आर्मी...

Indian Army : आर्मी को मिली आकाश प्राइम मिसाइल एयर डिफेंस सिस्टम की दो रेजिमेंट, दुश्मनों के करेगी दांत खट्टे

Indian army

Indian Army : आकाश प्राइम मिसाइल एयर डिफेंस सिस्टम पूरी तरह से देशी तकनीक पर आधारित डिफेंस सिस्टम है। और अब आकाश प्राइम मिसाइल एयर डिफेंस सिस्टम की दो रेजीमेंट भारतीय आर्मी में शामिल होने जा रही। इसके बाद भारतीय आर्मी की ताकत कहीं गुना बढ़ जाएगी।

बता दें कि आकाश प्राइम मिसाइल एयर डिफेंस सिसटम भारत आर्मी के लिए इतना जरूरी क्यों है? आकाश प्राइम मिसाइल एयर डिफेंस सिस्टम बेहद अत्याधुनिक एवं नई तकनीक से लैस है। इस एयर सिस्टम की खूबी ये है कि पलक झपकते ही दुश्मनों के लड़ाकू विमानों और ड्रोनों को धूल में मिला सकता है।

न्यूज एजेंसी एएनआई की एक रिपोर्ट के हवाले से कहा गया है कि आकाश प्राइम मिसाइल एयर डिफेंस सिस्टम पूरी तरह से सक्षम है दुश्मन देश चीन और पाकिस्तान की नापाक हरकतों को पलभर में नेस्तनाबूद कर सकता है। चीन और पाकिस्तान की तरफ से हो रहे हवाई हमलों के खिलाफ देश की एयर डिफेंस को और मजबूत करने में मदद करेगा।

आकाश प्राइम मिसाइल एयर डिफेंस सिस्टम के हो चुके हैं कई सफल परीक्षण

आकाश प्राइम के कई सफल परीक्षण हो चुके हैं। यह मिसाइल रक्षा प्रणाली आकाश डिफेंस सिस्टम का उन्नत रूप है। समाचार एजेंसी एएनआई ने सूत्रों के हवाले से कहा कि सेना का यह प्रस्ताव सरकार के पास भेज दिया गया है।

आकाश प्राइम मिसाइल एयर डिफेंस सिस्टम खरीद के बाद भारत की वायु रक्षा प्रणाली पहले से और भी ज्यादा मजबूत हो जाएगी। इससे पहले सेना की पश्चिमी और दक्षिणपश्चिमी कमांड्स ने आकाश मिसाइल के वर्तमान संस्करण के लगभग एक दर्जन परीक्षण किए हैं। सभी के परिणाम शानदार रहे। 

आकाश प्राइम मिसाइल एयर डिफेंस सिस्टम- कम तापमान में भी कारगर

आकाश प्राइम मिसाइल एयर डिफेंस सिस्टम की मारक क्षमता कम तापमान में और भी कई गुना बढ़ जाती है। आप को बता दें कि ये प्रणाली स्वदशी एक्टिव रेडियो फ्रीक्वेंसी सीकर पर आधारित है। इस प्रणाली की बदौलत इसकी सटीकता कई गुना ज्यादा घातक हो जाती है।

आकाश हथियार प्रणाली के एक मौजूदा ग्राउंड सिस्टम को कुछ बदलाव के साथ आकाश प्राइम मिसाइल एयर डिफेंस सिस्टम में उपयोग किया गया है। इस मिसाइल को 4500 मीटर की ऊंचाई तक तैनात किया जा सकता है और यह 25 से 35 किलोमीटर तक की दूरी तक सटीक निशाना लगाने में सक्षम है।

ये भी पढ़ें…

Former PM Imran Khan – “गधा,गधा रहता है कोई धारियां डालने से जेबरा नहीं बन जाता”, गलत मिसाल देकर बन गए हंसी के पात्र
Maharashtra Loudspeaker Row: मनसे प्रमुख राज ठाकरे की धमकी- मस्जिदों से नहीं उतरे लाउडस्पीकर तो जो होगा, उसके जिम्मेदार हम नहीं होंगे

By Atul Sharma

बेबाक लिखती है मेरी कलम, देशद्रोहियों की लेती है अच्छे से खबर, मेरी कलम ही मेरी पहचान है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.