Jahangirpuri Demolition update: बुलड़ोजर ने गिराई मस्जिद! आधी-हकीकत आधा-फसाना

Jahangirpuri Demolition live

Jahangirpuri Demolition update: दिल्ली के जहाँगीरपुरी में हनुमान जन्मोत्सव की शोभायात्रा के दौरान मस्जिद के सामने हुई हिंसा और उसके बाद इलाके में  अवैध निर्माण पर चलाए गए बुलड़ोजर के बाद देश में राजनीति तेज हो गई है। यही कारण है कि वहां अब राजनेताओं के आने जाने का सिलसिला शुरू हो गया है। मस्जिद के सामने से लेकर मंदिर के सामने तक चले बुलडोजर के बाद लोगों के जहन में तमाम तरह के सवाल खड़े हो गए हैं। कोई इसे एकतरफा कार्रवाई बता रहा है तो कोई दंगाइयों के खिलाफ इसे सही कदम बता रहा है।

Jahangirpuri Demolition update: जहांगीरपुरी में बुलड़ोजर चलने के बाद नेताओं के आने-जाने का सिलसिला जारी है। सबसे पहले पीड़ितों से मिलने के बहाने AIMIM के राष्ट्रीय अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी जहांगीरपुरी पहुंचे, लेकिन यहां मौजूद दिल्ली पुलिस के अधिकारियों ने उन्हें समझाकर भेज दिया। इसके अगले दिन कांग्रेस का 16 सदस्यीय दल जहांगीरपुरी में पीड़ितों से मुलाकात करने के लिए पहुंचा। हालांकि इनको भी बैरंग लौटना पड़ा।

इसके अगले दिन CPI और आप पार्टी ने नेता मौके पर पहुंचे। शुक्रवार दोपहर को सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव द्वारा भेजे गए संभल के सांसद शफीकुर्ररहमान भी जहांगीरपुरी पहुंचे। अब यहां पर अलग-अलग पार्टियों के नेताओं का आना और फिर केन्द्र सरकार के खिलाफ बयानबाजी करना एक जिम्मेदारी सी बन गया है। गौर करने वाली बात यह कि हनुमान की शोभायात्रा पर मस्जिद से हमला होने के चार दिन बीत जाने के बाद यहां कोई नहीं पहुंचा। जैसे ही MCD का बुलडोजर अतिक्रमण पर चला ऐसे ही यहां की राजनीति तेज हो गई।

मुस्लिम समुदाय के बीच अफवाह है कि बुलड़ोजर मस्जिद पर ही चला मंदिर पर नहीं, लेकिन सच ये है कि बुलडोजर न मंदिर पर चला न मस्जिद पर बुलडोजर मस्जिद के बाहर के अतिक्रमण को हटाते हुए मंदिर की और आगे बढ़ ही रहा था कि तभी वृंदा करात सुप्रीम कोर्ट का आदेश लेकर बुलड़ोजर के सामने खड़ी हो गईं। सुप्रीम कोर्ट के लिखित आदेश के बाद प्रशासन के अधिकारियों ने बुलडोजर को रोक दिया। हालांकि बाद में मंदिर के पुजारियों ने मंदिर के अतिक्रमण को खुद ही हटा दिया।

वहीं अफवाह यह भी है कि प्रशासन ने बुलडोजर से अवैध निर्माण के बहाने समुदाय विशेष के घरों को गिराया। जबकि सच्चाई यह है कि बुलडोजर ने अतिक्रमण को हटाया इसमें हिंदू और मुस्लिम समुदाय दोनों का ही अतिक्रमण शामिल था। यहां तक कि बुलडोजर ने किसी के घर को नहीं गिराया।  कुछ लोगों का आरोप है कि प्रशासन ने बिना नोटिस दिए बुलडोजर चलाया। इसके जवाब में अधिकारियों ने बताया कि अवैध रूप से बनाए गए घरों को गिराने से पहले नोटिस दिया जाता है। जबकि हमने किसी का धर नहीं गिराया सिर्फ रोड किनारे अतिक्रमण को हटाया है।

ये भी पढें…

गहलोत सरकार का हिंदू विरोधी चेहरा आया सामने, 300 साल पुराना शिव मंदिर पर चलाया बुलडोजर, बीजेपी विधायक-गहलोत है निकम्मा हिंदू

Jahangirpuri Demolition live : बीजेपी नेता हरीश खुराना का केजरीवाल पर तंज, “मुस्लिम वोटों की सेल लगी है, आप कहां रह गए पीछे”

By Rohit Attri

मानवता की आवाज़ बिना किसी के मोहताज हुए, अपने शब्दों में बेबाक लिखता हूँ.. ✍️