जम्मू-कश्मीर: टार्गेट किलिंग से दहशत में आए हिंदू, 1990 की तरह शुरू हुआ पलायन, श्रीनगर

जम्मू-कश्मीर: टार्गेट किलिंग से दहशत में आए हिंदू, 1990 की तरह शुरू हुआ पलायन, श्रीनगर एयरपोर्ट पहुँची हज़ारों हिंदुओं की भीड़

टा

जम्मू-कश्मीर: पिछले कुछ दिनों से जम्मू कश्मीर में हो रही टार्गेट किलिंग के बाद से दहशत में आए हिंदुओं ने कश्मीर से पलायन शुरू कर दिया है।  राहुल भट्ट की हत्या के बाद जम्मू कश्मीर में अपनी सुरक्षा की माँग को लेकर सरकार के खिलाफ चल रहा कश्मीरी पंडितों का धरना प्रदर्शन अब तेज़ हो गया है। इसका असर गुरुवार को कश्मीर में बख़ूबी देखने को मिला।

गुरुवार को बड़ी संख्या में कश्मीरी पंडित पलायन करते हुए दिखाई दिए। श्रीनगर एयरपोर्ट पर लोगों की भीड़ देखी गई। अब इसे लेकर विपक्ष ने केन्द्र सरकार पर निशाना साधना शुरू कर दिया है। हालाँकि एक दिन पहले ही प्रदर्शनकारियों ने ठोस कदम न उठाने पर कश्मीर से पलायन करने की धमकी दी थी। वहीं कश्मीरी पंडितों का पलायन देख गृह मंत्री अमित शाह ने शुक्रवार को आपातकालीन बैठक बुलाई है। 

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट करते हुए लिखा, “टार्गेट किलिंग के तहत आज आतंकवादियों ने विजय कुमार की निर्मम हत्या कर दी। ये जानकर मन बहुत दुखी हुआ। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दें। ये कश्मीर में क्या हो रहा है? हम अपने लोगों को सुरक्षा क्यों नहीं दे पा रहे?

वहीं कश्मीरी पंडितों का पलायन शुरू होने के बाद विपक्षियों ने केन्द्र सरकार पर निशाना साधना शुरू कर दिया है। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने ट्वीट करते हुए लिखा, “बैंक मैनेजर, टीचर और कई मासूम लोग रोज़ मारे जा रहे हैं, कश्मीरी पंडित पलायन कर रहे हैं। जिनको इनकी सुरक्षा करनी है, उनको फिल्म के प्रमोशन से फुर्सत नहीं है। भाजपा ने कश्मीर को सिर्फ अपनी सत्ता की सीढ़ी बनाया है। कश्मीर में अमन कायम करने के लिए तुरंत कदम उठाइए, प्रधानमंत्री जी।”

जम्मू-कश्मीर: दरअसल 12 मई को हुई राहुल भट्ट की हत्या के बाद से ही कश्मीर घाटी में अपनी सुरक्षा की माँग व कश्मीर से बाहर जिला मुख्यालय पर पोस्टिंग देने की माँग को लेकर पिछले करीब 18 दिनों से कश्मीरी पंडितों का आंदोलन चल रहा है। इतना ही नहीं इस आंदोलन में प्रधानमंत्री रोजगार पैकेज के तहत नौकरी पाने वाले पंडित भी काम का बहिष्कार कर प्रदर्शन कर रहे हैं।

वहीं मामले को गंभीरता से लेते हुए गृहमंत्री अमित शाह ने कल (3 जून) उप राज्यपाल मनोज सिन्हा के साथ हाई-लेवल मीटिंग बुलाई है। दोपहर के समय होने वाली इस बैठक में भी NSA डोभाल मौजूद रहेंगे। इसके अलावा मीटिंग में जम्मू-कश्मीर के डायरेक्टर जनरल ऑफ पुलिस दिलबाग सिंह, केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला, केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के महानिदेशक कुलदीप सिंह और सीमा सुरक्षा बल के प्रमुख पंकज सिंह भी मौजूद रहेंगे।

बताया जा रहा है कि ये घाटी में अब तक का सबसे लंबा चलने वाला प्रदर्शन बन चुका है।आपको बता दें कि 4 अप्रैल को जम्मू कश्मीर के शोपियां में आतंकियों ने बालकृष्ण भट्ट की हत्या कर दी। इसके बाद 13 अप्रैल को कुलगांव में सतीश सिंह, 12 मई को बडगाम में राहुल भट्ट और 31 मई को कुलगाम में रजनी बाला को आतंकियों ने मौत के घाट उतार दिया। इन सभी का आरोप सिर्फ़ इतना था कि यह हिंदू थे।

ये भी पढ़ें…

lesbian: आदिला पर आया फातिमा का दिल, घरवालों की बंदिशे भी न रोक सकी, कोर्ट ने दिया आदिला और फातिमा का साथ

Singer Moosewala Murder Case: सिद्धू मुसेवाला की हत्या से उड़ी गृहमंत्री अमित शाह की नींद, भारतीय सेना के पास भी नहीं AN-94

By Keshav Malan

यह कलम दिल, दिमाग से नहीं सिर्फ भाव से लिखती है, इस 'भाव' का न कोई 'तोल' है न कोई 'मोल'

Leave a Reply

Your email address will not be published.