Jammu & Kashmir: मोदी सरकार पर बरसी महबूबा,कहा- "हमसे हमारा संविधान और..."

Jammu & Kashmir: मोदी सरकार पर बरसी महबूबा,कहा- “हमसे हमारा संविधान और झंडा छीना”

Jammu & Kashmir

Jammu & Kashmir: श्रीनगर में PDP अध्यक्षा महबूबा मुफ्ती ने मोदी सरकार पर हमला करते हुए कहा कि “मैं मुल्क के लोगों को बताना चाहती हूं कि BJP ने यहां के संविधान को अधिनस्त करने का जो तरीका अपनाया उससे इन्होंने केवल हमारा संविधान और झंडा नहीं छीना बल्कि अगली बारी आपकी है। 2019 के बाद इन्होंने गैरकानूनी तरीके से हमसे हमारा 370, संविधान और झंडा छीना।”

Jammu & Kashmir: उन्होने आगे कहा कि “अगर इनमें हिम्मत होती तो संसद के जरिए करते, मैं उसको कानूनी मानती। 2024 के चुनाव के बाद ये देश के संविधान को भी खत्म करेंगे और मुल्क के झंडे को भगवा झंडे में लहरा देंगे। ये इस राष्ट्र को BJP राष्ट्र बनाना चाहते हैं।”

Jammu & Kashmir: आपको बता दें कि महबूबा मुफ्ती ने एक के बाद एक कई ट्वीट करते हुए मोदी सरकार पर जबरदस्त हमला बोला। उन्होंने ट्वीट में कहा कि, “जवाहर लाल नेहरू दो झंडों के बीच खड़े थे। एक भारतीय राष्ट्रीय ध्वज और दूसरा जम्मूकश्मीर राज्य का झंडा, जिसे 1952 में सांविधानिक तौर पर अपनाया गया था। इस पर भाजपा के विभाजनकारी एजेंडे को पूरा करने के लिए बुल्डोजर चला दिया गया। भारतीय ध्वज का हर आधारभूत मूल्य भी खतरे में है।”

उन्होंने एक अन्य ट्वीट के जरिए भाजपा को धमकाते हुए कहा कि “ऐसा न हो कि हम भूल जाएं कि जम्मूकश्मीर के लोगों ने अक्तूबर 1947 में भारतीय ध्वज को स्वीकार किया था, लेकिन कुछ शर्तों और सांविधानिक गारंटी के साथ, जैसे कि हमारा अपना झंडा होगा और एक अलग संविधान होगा। भाजपा के वैचारिक अभिभावक आरएसएस ने इसे स्वीकार किया था। महबूबा ने लिखा, जम्मूकश्मीर प्रशासन बेशर्मी से दावे करता है कि कश्मीरी भारतीय झंडा फहरा रहे हैं। सच तो यह है कि उन्हें ऐसा करने की धमकी दी गई या फिर अंजाम भुगतने की।”

ये भी पढ़े…

Up Crime News: पुलिस और शातिर कबाड़ी चोर की जुगलबंदी, जन्मदिन पार्टी में एसओजी सिपाहियों ने जमकर मनाया जश्न

Delhi: योगी सरकार की तर्ज पर दिल्ली में चला बुलडोजर, बिलखते रहे मुस्लिम परिवार, अस्थाई मस्जिद भी जमींदोज

 

By Atul Sharma

बेबाक लिखती है मेरी कलम, देशद्रोहियों की लेती है अच्छे से खबर, मेरी कलम ही मेरी पहचान है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.