Rakesh Tikait: किसान नेता राकेश टिकैत पर बेंगलुरू में एक सभा के दौरान फेंकी..

Rakesh Tikait: किसान नेता राकेश टिकैत पर बेंगलुरू में एक सभा के दौरान फेंकी स्याही तो कार्यकर्ताओं में ताबड़तोड़ चलीं कुर्सियां

Rakesh tikait

Rakesh Tikait: कर्नाटक के बेंगलुरू में एक सभा के दौरान कुछ कार्यकर्ताओं ने भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता व किसान नेता राकेश टिकैत के सामने मीड़िया के रखे माइक से एक शख्स ने टिकैत के ऊपर हमला कर दिया तो वहीं पीछे से आये दूसरे शख्स ने टिकैत के ऊपर स्याही फेंककर मुँह काला कर दिया। जैसे ही ये घटना घटी तो गुस्साए टिकैत समर्थकों में व कालिख पोतने वाला पक्ष दोनें में सभा के बीच ही एक दूसरे में कुर्सियाँ बजने लगीं।

दरअसल मामला सोमवार दोपहर का है जब बेंगलुरु में मीडिया से बातचीत के दौरान राकेश टिकैत से चंद्रशेखर के बारे में सवाल किया गया।  तो उन्होंने कहा कि उनका चंद्रशेखर से कोई लेना देना नहीं  चंद्रशेखर फ्रॉड है, इसके बाद अचानक से चंद्रशेखर के समर्थकों में से एक ने राकेश टिकैत पर स्याही फेंक दी।

इससे राकेश टिकैत के समर्थक भड़क गए, उन्होंने स्याही फेंकने वाले शख्स को पकड़ लिया। इसके बाद चंद्रशेखर और राकेश टिकैत के समर्थक आपस में भिड़ गये, जमकर मारपीट हुई और खूब कुर्सियां चलीं। नाराज राकेश टिकैत ने कर्नाटक पुलिस पर सवाल खड़े कर दिए। साथ ही टिकैत ने इसका आरोप भी भाजपा पर ही लगाया है, कहा कि ये सब सरकार की ही साजिश है।

Rakesh Tikait: आपको बता दें कि कर्नाटक में बसवराज बोम्मई भाजपा के मुख्यमंत्री हैं। राकेश टिकैत ने आरोप लगाया कि राज्य सरकार ने वहाँ उनके लिए सुरक्षा की कोई व्यवस्था नहीं की और कहा कि सुरक्षा की जिम्मेदारी सरकार और पुलिस की ही होती है। उनके समर्थकों ने वहाँ इस घटना के बाद जम कर बवाल काटा।

किसान नेता युद्धवीर सिंह भी इस दौरान उनके साथ मौजूद थे। दोनों किसान नेता एक स्थानीय चैनल के स्टिंग खुलासे को लेकर सफाई देने आए थे। असल में कर्नाटक के किसान नेता कोडिहल्ली चंद्रशेखर को पैसे माँगते हुए कैद कर लिया किया गया था, जिस बाबत सफाई देने के लिए ये किसान नेता वहाँ पहुँचे थे।

ये भी पढ़ें..

COVID: कोरोना ने छीना आंचल, तो सरकार ने दिया बल, अनाथ बच्चों का खर्चा उठायेगी सरकार

Devband: मौलाना मदनी ने कहा कि मुसलमान सदियों से जुल्म सहता आया है, हम नहीं डराते किसी को, लोग हमें डराते है…

By Rohit Attri

मानवता की आवाज़ बिना किसी के मोहताज हुए, अपने शब्दों में बेबाक लिखता हूँ.. ✍️

Leave a Reply

Your email address will not be published.