UP News: ओम प्रकाश राजभर ने एक बार फिर चली सियासी चाल, बीजेपी पर...

UP News: ओपी राजभर ने सीएम योगी से मुलाकात कर फिर चली सियासी चाल, थाम सकते हैं भाजपा का दामन

UP News

UP News: उत्तर प्रदेश (UP) में एक बार फिर से सियासी सरगर्मी उफान पर दिख रही है, दरअसल बीजेपी पर तरह तरह के सवाल खड़े करने वाले पलटू चाचा ओम प्रकाश राजभर अब उसी बीजेपी की तारीफ करते नहीं थक रहे, जबसे उन्होंने योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की और दोनो नेताओं के बीच मुलाकात के बाद पलटू चाचा बदले बदले नजर आ रहे है।

आपको बता दें कि विधानसभा चुनाव से पहले ओमप्रकाश राजभर सपा में शामिल हो गए थे और अब सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव पर भी सावल खड़े कर रहे है इसके बाद राजनीतिक जानकार ऐसे कयास लगा रहे हैं कि वो फिर से बीजेपी में शामिल हो सकते हैं ।

UP News: वहीं, ओपी राजभर की इस मुलाकात के कुछ और भी मायने लोग निकाल रहे है। हालांकि राजभर ने बताया कि आजादी के बाद से उपेक्षित राजभर बिरादरी बहुत जल्द अनुसूचित जनजाति में सूचीबद्ध हो जाएगी।

इलाहाबाद हाईकोर्ट द्वारा 11 मार्च 2022 को इस संबंध में दिए गए आदेशों का अनुपालन कराने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सहमत हो गए हैं और इस संबंध में मंगलवार की शाम को उनके आवास पर हुई मुलाकात के दौरान उन्होंने राजभर बिरादरी को अनुसूचित जन जाति में सूचीबद्ध किए जाने का प्रस्ताव भारत सरकार को भेजने के लिए समाज कल्याण विभाग को निर्देशित कर दिया।

UP News: ओपी राजभर और सीएम योगी के बीच हुई इस मुलाकात में SBSP प्रमुख के बेटे अरविंद राजभर भी शामिल थे. अरविंद ने ट्विटर पर इस मुलाकात की तस्वीर शेयर की है. अरविंद राजभर ओम प्रकाश राजभर के बड़े बेटे हैं. अरविंद राजभर ने तस्वीर ट्वीट कर लिखा, ‘समाज हित के मुद्दों पर मुलाकात.’ वहीं ओम प्रकाश राजभर बुधवार को सुबह नौ बजे लखनऊ में एक प्रेस कांफ्रेंस भी की थी।

गौरतलब है कि चुनाव के समय राजभर के बोल कुछ अलग ही होते हैं दरअसल जिस पार्टी का कुनबा उन्हें भारी लगता है उस पार्टी में वो बिना देर किए शामिल होने का कयास लगाने लगते हैं।

इससे पहले आपने देखा होगा कि उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव के दौरान बीजेपी से पल्ला झाड़ सपा में शामिल हो गए थे और सपा में शामिल होने के बाद जो ओपी राजभर अखिलेश यादव की तारीफ करते नहीं थक रहे थे अब वही ओपी राजभर आय दिन सपा पर निशाना साधने में बिल्कुल नहीं चूकते।

UP News: ओपी राजभर ने 21 सितंबर यानी बुधवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस की जिसमें उन्होंने कहा कि वह कल योगी आदित्यनाथ से मिले थे। उन्होंने सीएम से मिलकर राजभर जाति को एसटी का दर्जा दिलाने की बात की है और इस मुद्दे पर एक टीवी चैनल से बात कर रहे ओपी राजभर ने समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव पर जमकर हमला बोला…

उन्होंने कहा कि ओमप्रकाश राजभर से यूपी तक के रिपोर्टर ने सवाल किया कि समाजवादी पार्टी की ओर से कहा जा रहा है कि आप लोकल नेता हैं। आपको केवल कुछ जिले के लोग ही जानते हैं। आप हर 3 घंटे में बयान बदलते रहते हैं?

इसके जवाब में शायराना अंदाज में ओपी राजभर ने कहा कि अगर सच बोलना बगावत है तो समझो हम बाकी हैं। सपा पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि ‘इनकी पार्टी में कोई ऐसा नेता हो, जो अपने आपको हिमालय पहाड़ समझता हो। वह हमारे तीन प्रश्नों के जवाब दे दे…

UP News: ओपी राजभर ने सपा पर कटाक्ष कर कहा, ‘हम तो 3 घंटे में बयान बदलते हैं लेकिन सपा वाले तो हर मिनट बयान बदलते हैं।’ इसके साथ ही उन्होंने सपा से सवाल किया कि उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 में पिछड़ी जातियों के नेताओं को टिकट क्यों नहीं दिया गया था?।

वहीं ओम प्रकाश ने समाजवादी पार्टी को ड्रामा पार्टी ही बता दिया उन्होंने कहा कि जब अखिलेश यादव सरकार में थे, तब उन्होंने इन मुद्दों को लेकर अमल किया, जिन मुद्दों को लेकर अब वो तख्ती लेकर निकल रहे हैं। जब उनके पिता जी रक्षा मंत्री थे, तब 17 जातियों को अनुसूचित जातियों में शामिल करने का मामला दिल्ली की पार्लियामेंट में पास क्यों नहीं करावाया। यह सब ड्रामा है। वोट लेने के लिए वो शिगूफा छोड़ रहे।

ओम प्रकाश राजभर ने अखिलेश यादव से पूछा कि जब आप सत्ता में थे, तब सामाजिक न्याय की रिपोर्ट क्यों नहीं लागू की। समाजवादी पार्टी की सरकार को हाई कोर्ट ने आदेश दिया। राजभर ने कहा कि आप अखिलेश यादव का 4 सितंबर 2013 का आदेश पढ़ लें।

जब ओम प्रकाश राजभर से सवाल किया गया कि आपको समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन करने से पहले ही सारी बातें पता थीं। इस सवाल के जवाब में राजभर ने कहा कि कभी-कभी जानबूझ कर जहर खाना पड़ता है। हमने सोचा चलो जरा अंदर चलकर देखते हैं कि अंदर क्या हाल है। तो अंदर कुछ और ही मामला था। आगे कहा कि समाजवादी पार्टी की वोट लेने की साजिश है, हिस्सा देने की नहीं।

वहीं चुानाव के दौरान ओपी राजभर ने अखिलेश यादव से मुलाकात के दौरान कहा था कि इस बर भाजपा साफ है और यही उम्मीद लेकर राजभर सपा में शामिल हुए थे लेकिन राजभर के सारे सपनो पर अखिलेश यादव ने पानी फेर दिया और अब राजभर मजबूर हैं। अखिलेश यादव की बुराई करने के लिए और वो कोई मौका छोड़ भी नहीं रहे है जब भी मौका मिल रहा है तब ही अखिल्श यादव को जी भर के कोस रहे है।

आपको बतां दे कि यू ही नहीं राजभर को पलटू चाचा कहा जा रहा है राजभर एक एक कर सारी पार्टियों की मलाई चख चुके हैं इससे पहले उन्होंने बीजेपी को छोड़ने से पहले ये भी आरोप लगाया था कि बीजेपी दलितों की इज्जत नहीं करती और सपा की जीत के लिए राजभर ने भी अपनी पूरी ताकत झोंकी दी थी।

ये भी पढ़ें…

Pakistan: इमरान खान पीएम मोदी के फिर हुए मुरीद, नवाज शरीफ को बताया महाभ्रष्ट
Waqf Board Property Survey: वक्फ बोर्ड की संपत्ति के सर्वे को NRC बताने पर केशव प्रसाद मोर्य का हमला,मुस्लिमों के खिलाफ है ओवैसी

By Atul Sharma

बेबाक लिखती है मेरी कलम, देशद्रोहियों की लेती है अच्छे से खबर, मेरी कलम ही मेरी पहचान है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.