Yasin Malik: यासिन मलिक की सजा पर पाकिस्तान और इस्लामिक संगठनो

Yasin Malik: यासिन मलिक की सजा पर पाकिस्तान और इस्लामिक संगठनो ने किया विरोध, भारत ने दिया करारा जवाब

Yasin Malik:

Yasin Malik: आपको बता दें यासिन मलिक की सजा के बाद अदालत के फैसले को लेकर ओआईसी-आईपीएचआरसी (इंडिपेंडेंट पर्मानेंट ह्यूमन राइट्स कमिशन) की उस टिप्पणी को भारत ने शुक्रवार को ‘अस्वीकार्य’ बताया।

Yasin Malik: जिसमे नई दिल्ली की आलोचना की गई है, विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा दुनिया आतंकवाद को कतई बर्दाश्त नहीं करेगी और ऑर्गेनाइजेशन ऑफ इस्लामिक कोऑपरेशन (ओआईसी) से अनुरोध किया कि वह इसे किसी भी सूरत में सही नहीं ठहराए।

बागची ने कहा, ‘यासिन मलिक के मामले में फैसले को लेकर भारत की आलोचना करने वाली ओआईसी-आईपीएचआरसी की टिप्पणियों को भारत स्वीकार करने योग्य नहीं मानता।’ उन्होंने कहा कि इन टिप्पणियों के माध्यम से ओआईसी-आईपीएचआरसी ने यासिन मलिक की उन आतंकवादी गतिविधियों को अपना समर्थन दिया है, जिनके संबंध में अदालत में साक्ष्य पेश किए गए हैं।

गौरतलब है कि जेकेएल प्रमुख यासिन मलिक को कोर्ट ने उम्रकैद की सजा दी है। सजा सुनाने के बाद जम्मू कश्मीर में जमकर पत्थर बाजी भी हुई और तो और जिस तरह से यासिन मलिक ने कोर्ट में कहा था कि क्या सबूत हैं कि मैंने आतंकियों का समर्थन किया है। हालांकि कोर्ट में यह भी कहा की कोर्ट को जो सजा देनी है दे मैं भीख नहीं मागूंगा।

सजा के बाद लगातार ट्वीट आने शुरु हो गए, पाकिस्तानी क्रिकेटर शाहिद अफरीदी ने ट्विट करते हुए भारत पर कटाक्ष किया। और और तो और पाकिस्तान के नए नवेले पीएम शाहबाज शरीफ ने भी ट्वीट किया और कहा की यासिन मलिक को शारीरिक कैद कर सकते हैं वैचारिक कैद कैसे करेंगे।

इसके अलावा पाकिस्तान के पूर्व प्रधान मंत्री इमरान खान जो कि समय समय पर भारत की तारीफों के पुल बांधते रहते हैंं। उन्होंने ट्वीट में लिखा भारत की इस निति की मैं कड़ी निंंदा करता हुं। गौरतलब है कि पाकिस्तानियों से लेकर मेहबूबा मुफ्ती तक एक आतंकवादी को बचाने की इतनी होड़ क्यों है।

यासीन को 7 नंबर जेल में रखा गया है। तिहाड़ जेल के डीजी संदीप गोयल के मुताबिक यह एक सेपरेट बैरक है, जहां यासीन मालिक की सुरक्षा को लेकर खास ध्यान दिया जा रहा है। सीसीटीवी कैमरों से निगरानी की जा रही है।

Rakesh Tikait: भाकियू प्रवक्ता राकेश टिकैत की योगी को धमकी, कहा- ‘किसानों की ट्राली रोकी गई तो थानों में भर देंगे भूसा’
Mahatma Gandhi: मंदिरों को तोड़कर बनाई गईं मस्जिदें भारत के गुलामी की प्रतीक हैं

 

By Kajal Singh

Leave a Reply

Your email address will not be published.