रहस्यमयी कहानी 9: बचपन में अपहरण हुआ, 4 बार जेल गई, वेश्यवृति से..

रहस्यमयी कहानी 9: बचपन में अपहरण हुआ, 4 बार जेल गई, वेश्यवृति से गुजर कर झाड़ू पोंछा किया, 50 साल बाद फेसबुक ने मां-बाप से मिलाया

facebook reunites parents

रहस्यमयी कहानी 9: फेसबुक कई अपराधिक घटनाओं को बढ़ावा देता है, तो कई बार विवादित बयान वायरल होने पर हिंसा भी उत्पन्न करता है। लेकिन कई बार फेसबुक वर्षों पहले खोई हुईं खुशियों को वापिस दिलाने का भी कारण बनता है। जिस चीज का प्रभाव नकारात्मक है, तो सकारात्मक भी। हम आपको खबर इंडिया टीवी की रहस्यमयी कहानी 9 में बतायेंगे कि फेसबुक व कमर के एक निशान ने 50 साल बाद कैसे मां-बाप से मिलवाया।

पढ़िए क्या है रहस्यमयी कहानी 9 में..

फेसबुक ने 50 साल बाद टेक्सास की एक महिला को अपने माता-पिता, बहनों और उनके बच्चों से मिलवाया है। इस महिला का करीब 2 साल की उम्र में अपहरण हो गया था। अपहरण करने वाली इसकी बेबीसिटर थी। इतने साल बाद मिलने की इस कहानी पर लोगों को यकीन नहीं हो पा रहा है। मेलिना वाल्डेन नाम की महिला की जिंदगी अपहरण होने के बाद पूरी तरह से बदल गई।

रहस्यमयी कहानी 9: उन्हें अपना गुजारा करने के लिए हर तरह का काम करना पड़ा। 53 साल की उम्र में वह आज लोगों के घर जाकर और चर्च में झाड़ू-पोछा करती हैं। उनकी पढ़ाई भी काफी मुश्किल हालात में हुई। 53 साल की जिंदगी में उन्हें 4 बार वेश्यावृत्ति के लिए जेल भी जाना पड़ा। इस दौरान कई शादियों के बाद उनके तीन बच्चे भी हुए लेकिन उनकी हालत ऐसी नहीं थी कि वो उनकी अच्छी परवरिश कर पातीं। इसलिए वो इन बच्चों को किसी को पालने के लिए देना चाहती थीं।

बर्थमार्क बना परिवार से मिलाने की वजह

मेलिना वाल्डेन अपने परिवार तक पहुंचने की कहानी में सबसे अहम चीज बनी उनकी पीठ का निशान। असल में मेलिना उर्फ मेलिसा जब से अपनी बेबीसिटर के हाथों अपहरण हुआ। तभी से उनका परिवार उन्हें ढूंढने की कोशिश कर रहा था। इसके लिए परिवार ने एक फेसबुक पेज बनाया था। इसमें उनकी बचपन की फोटो अपलोड की गई थीं। इसमें इस बात का भी जिक्र था, कि उनकी पीठ पर एक बर्थमार्क है। यही बर्थमार्क 50 साल से बिछड़े परिवार को मिलाने की वजह बना।

रहस्यमयी कहानी 9: नवंबर 2022 की शुरुआत में मेलिना को फेसबुक पर एक मैसेज आया था कि उनकी बहनें और पापा उनसे बात करना चाहते हैं। पहले तो मेलिना को लगा कि कोई उनसे मजाक कर रहा है। मेलिना को मैसेज करने वाली शेरोन हाईस्मिथ और रेबेका डेल बोस्क नाम की दो महिलाएं थीं। इन्होंने कहा कि वे उनकी बहनें हैं।

उन्हें एक और मैसेज मिला, जो कि जेफ्री हाईस्मिथ नाम के शख्स ने किया था। जेफ्री ने खुद को मेलिना का पिता बताया था। दोनों ही मैसेज में जोर देकर कहा गया था कि साल 1971 में जब वह करीब 2 साल की थीं तो उन्हें किडनैप कर लिया गया था। फैमिली ने दावा किया कि उनके पास सबूत के तौर पर मेलिना और फैमिली की डीएनए रिपोर्ट है, जो आपस में मैच करती है।

रहस्यमयी कहानी 9: सच सामने आने के बाद मेलिना ने अपना नाम बदल लिया। एक इंटरव्यू में कहा, कि सारा सच सामने आने के बाद यह मेरे लिए बेहद भावुक पल था। मेरे दिमाग में सबसे पहले यह फीलिंग आई कि- ‘आखिरकार मेरे पास एक मां और एक पिता हैं जो मुझे चाहते हैं। वे मुझसे प्यार करते हैं। अब मेरे पास भी ऐसे लोग हैं, जो मुझे प्यार करते हैं। मेरा मन उनसे मिलने के लिए मचल उठा।’ मेलिना ने यह भी बताया कि अब वह अपना नाम बदलकर वापस मेलिसा हाईस्मिथ रख लेंगी।

ये भी पढ़ें..

Raebareli News: ढाई फीट के शरीफ को घर तो मिल गया अब घरवाली चाहिए, डीएम के आगे जोड़े हाथ

Jhansi News: 5 साल का बेटा बना चश्मदीद गवाह, मां के हत्यारे पिता को 10 साल की जेल

By Rohit Attri

मानवता की आवाज़ बिना किसी के मोहताज हुए, अपने शब्दों में बेबाक लिखता हूँ.. ✍️

Leave a Reply

Your email address will not be published.