GyanVaapi Maszid:भगवा लपेटे मंदिर के सामने महिला पढ़ने लगी नमाज़, परिजन बोले मानसिक रूप से बीमार

GyanVaapi Masjid

GyanVaapi Maszid: उत्तर प्रदेश के वाराणसी स्थित काशी विश्वनाथ और ज्ञानवापी मस्जिद परिसर का शुक्रवार (6 मई 2022) को अदालती आदेश के बाद वीडियोग्राफी का काम शुरू किया गया इस दौरान दोनों पक्षों की ओर से जमकर नारेबाजी भी हुई
मामले ने विकराल रूप तो तब ले लिया जब एक महिला भगवा लपेटे काशी विश्वनाथ मंदिर के गेट नंबर 4 के सामने नमाज़ पढ़ने लग गई अब सवाल ये उठता है कि इस्लाम महिलाओं को मस्जिद में नमाज़ पढ़ने की अनुमति नहीं देता लेकिन क्या इस्लाम मंदिर के सामने जबरन नमाज़ पढ़ने की अनुमति देता है? और हद तो तब हो जाती है जब किसी भी मुस्लिम अपराधी

GyanVaapi Maszid: चाहें वो महिला हो या पुरुष अपराधी नहीं बल्कि मानसिक रूप से बीमार का करार दे दिया जाता है। और यह पहला  मामला नहीं है जब मंदिर पर  हमला करने वालों को मानसिक रूप से बीमार बताया गया है इससे पहले भी बीते कुछ दिन पहले जिस तरह से मुर्तजा ने गोरखनाथ मंदिर पर हमला के साथ साथ पुलिसकर्मियों पर  भी हमला किया था। और उसे मानसिक रूप से बीमार का करार दे दिया गया हालाकि उसके बाद जांच के बाद आईएसआई के संगठनों से संबंध पाए गए
तो यह कोई आश्चर्य वाली बात नहीं है।

हालाकि तैनात सुरक्षाकर्मियों ने पहले तो उस महिला की नमाज़ में बाधा न डालते हुए या उसे डिस्टर्ब न करते हुए उसे नमाज़ पढ़ने दिया गया लेकिन काफी देर तक महिला वहां नमाज़ के बहाने बैठी रही फिर पुलिस को जबरन वहां से उस महिला को हटाना पड़ा।
रिपोर्ट के अनुसार वाराणसी के जैतपुरा थाना क्षेत्र की रहने वाली मुस्लिम महिला का नाम आयसा बताया जा रहा है।
थाना चौक पुलिस ने उसे हिरासत में ले लिया है। पुलिस का कहना है कि आरोपित महिला मानसिक रूप से बीमार है। फिलहाल उसे पुलिस की हिरासत में रखा गया है।इसके अलावा, दोनों समुदाय के लोग भारी संख्या में वहाँ पहुँचे हैं। इस बीच मस्जिद को हरे पर्दे से ढंक दिया गया है। दरअसल काशी विश्वनाथ मंदिर धाम के गेट नंबर 4 के बगल से मस्जिद की ओर जाने का करीब 8 फीट चौड़ा रास्ता है। इस रास्ते से मस्जिद का पूरा हिस्सा दिखता है। इस हिस्से को हरे पर्दे और होर्डिंग लगा कर ढंक दिया गया।

वैसे तो हर शुक्रवार को जुमे की नमाज़ को लेकर यहां भीड़ तो होती है लेकिन पुलिस कर्मियों का कहना है कि इससे पहले इतनी भीड़ कभी नहीं हुए
बताया जा रहा है कि यह भीड़ मस्जिद के सर्वे को लेकर हुए थी
बता दें कि कोर्ट ने 30अप्रैल2022 को ज्ञानवापी मस्जिद परिसर स्थित माता श्रृंगार गौरी और अन्य विग्रहों की स्थिति का पता लगाने के लिए वीडियोग्राफी कराने का आदेश दिया था।
कोर्ट के आदेश के बाद वाराणसी में चप्पे चप्पे पर पुलिस की तैनाती कर दी गई है
इसके साथ ही पुलिस कमिश्नर सतीश वा गणेश भी सुरक्षा की चाक चौबंद में खुद सड़को पर उतर आए हैंइसके साथ ही एलआईयू की टीमों समेत इंटेलीजेंस ब्यूरो की टीमें भी सिविल ड्रेस में इलाके पर नजर रख रही हैं।

GyanVaapi maszid survey : ज्ञानवापी मस्जिद की विडीयोग्राफी के दौरान मुस्लिम समुदाय के लोगों ने काटा हंगामा, मौके पर भारी पुलिसबल तैनात

अलविदा जुमा नमाज : यूपी में सड़कों पर नहीं पढ़ सकेंगे नमाज, मुस्लिम धर्म गुरूओं ने जारी की गाइडलाइन

 

By Kajal Singh